DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जाटों का प्रदर्शन हिंसक हुआ, सेना से मांगी गई मदद

जाटों का प्रदर्शन हिंसक होने के बाद जिलाधिकारी ने आज स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए सेना की मदद मांगी है। जाटों ने हिंसा के दौरान एक पुलिस चौकी और न्यायाधीश की कार को भी आग लगा दी। इस घटना में एक व्यक्ति की मौत भी हो गई है। हिंसक आंदोलन के बीच जिलाधिकारी ने सभी शिक्षण संस्थानों में तीन दिन के अवकाश की घोषणा कर दी है। पिछले 18 दिन से रेल यातायात बाधित किए हुए प्रदर्शनकारी सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में ओबीसी कोटा की मांग कर रहे हैं। पुलिस और प्रदर्शनकारियों की क्षड़प में एक व्यक्ति के मरने के बाद कल रात जिला एवं सत्र न्यायाधीश की कार को आग लगा दी।

पुलिस ने बताया कि गुस्साऐ प्रदर्शनकारियों ने हिसार कैंट इलाके में पुलिस चौकी को आग लगा दी और कैंट इलाके में ही भारतीय स्टेट बैंक के एटीएम को भी आग लगा दी। पुलिस ने बताया कि जींद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश रमिंदर जैन अपनी कार से जींद जा रहे थे उसी दौरान मिर्चपुर में प्रदर्शनकारियों ने उनकी कार को आग लगा दी। न्यायाधीश को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। स्थिति हिंसक होने के बाद आज जिले में बसों का आवागमन बंद रहा। उपायुक्त अमित अग्रवाल ने कहा कि सभी शिक्षण संस्थान तीन दिन के लिए बंद रहेंगे लेकिन बोर्ड की परीक्षाएं पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार चलेंगी। अमित ने कहा कि जिला प्रसाशन ने स्थिति पर काबू पाने के लिए सेना की मदद मांगी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जाटों का प्रदर्शन हिंसक हुआ, सेना से मांगी गई मदद