DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुस्कुराहट वाले रंग से मन खिल जाता है: रानी मुखर्जी

फिल्मी माहौल में पली-बढ़ी रानी मुखर्जी ने जब फिल्मों में अपना करियर शुरू किया तो सभी ने यही कहा कि यह लड़की इस इंडस्ट्री में नहीं चल सकती। लेकिन रानी ने कड़ी मेहनत और टेलेंट के बल पर फिल्म जगत में अपना अलग मुकाम बनाया। रानी खुद को कैसे चुस्त-दुरुस्त रखती हैं, यह जानने की कोशिश की साक्षी त्रिपाठी ने

जीवन के कौन से रंग आपको सबसे ज्यादा पसंद हैं?
वैसे तो जीवन के हर रंग यानी उतार-चढ़ाव का अपना मजा होता है, लेकिन मुस्कुराहट वाला रंग सबसे ज्यादा पसंद है। यह एक ऐसा रंग है, जिसके सहारे जीवन के सारे दुख सुख में बदल जाते हैं और खुशी दोगुनी हो जाती है। हर इंसान को मुस्कुराता हुआ चेहरा अच्छा लगता है और सबसे बड़ी बात ये है कि मुस्कुराता हुआ चेहरा जहां आपको खुशी देता है, वहीं पलभर के लिए ही सही, हम अपनी सारी परेशानियां और तनाव भूल जाते हैं।

और कौन-सी बाते हैं, जो आपको खुशी देती हैं?
मुझे अपनी सेहत का खयाल रखना अच्छा लगता है। जब मैं अपने आपको मिरर में देखती हूं और खुद को फिट पाती हूं तो अंदर से बहुत अच्छा महसूस करती हूं।

तब तो फिटनेस का खास ख्याल रखती होंगी?
दरअसल मैं एक ऐसे प्रोफेशन में हूं, जहां पर अपनी सेहत और फिटनेस का खास ख्याल रखना पड़ता है। पहले मैं इन बातों पर विशेष ध्यान नहीं देती थी, लेकिन जब से फिल्म जगत का हिस्सा बनी हूं, तब से फिटनेस के मायने समझने लगी हूं। अब तो यह मेरा पैशन बन चुका है। मुझे लगता है कि फिटनेस का ध्यान सभी को रखना चाहिए, क्योंकि इसके कई फायदे हैं। इससे काम करने की ऊर्जा मिलती है। जब तन स्वस्थ रहता है तो उसका असर मन पर भी पड़ता है और हमारा मन भी प्रसन्न रहता है।

फिटनेस के लिए क्या करती हैं?
मेरे घर में एक जिम है, जिसमें हर रोज दो घंटे एक्सरसाइज करती हूं। इसके अलावा हर दूसरे दिन योग और वेट ट्रेनिंग का सेशन भी करती हूं। अपनी एक्सरसाइज में हमेशा बदलाव करती रहती हूं, ताकि बोरियत ना हो और रिजल्ट भी आता रहे। मेरे लिए फिजिकल फिटनेस का मतलब साइज जीरो नहीं है, मैं ज्यादा टोनिंग पर ध्यान देती हूं। दरअसल मेरी साइज छोटी है, इसलिए मुझे इस ओर बहुत ज्यादा ध्यान देने की जरूरत नहीं पड़ती है।

खाने का भी विशेष ध्यान रखती हैं?
हां, क्योंकि उसका असर शरीर  से लेकर स्किन तक पर होता है। मैं सब कुछ खाती हूं, इसलिए खाना मेरे लिए कभी भी समस्या नहीं रही। इस बात का ख्याल रखती हूं कि जितना खाया है, उतनी एक्सरसाइज हो जाए। हर दिन मेरी डायट में 40 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 35 प्रतिशत प्रोटीन और 10 प्रतिशत फैट की मात्र शामिल होती है। मेरे ट्रेनर जो डायट चार्ट मुझे देते हैं, मैं उसे फॉलो करती हूं। वे हर 10 दिन में उसे बदल देते हैं।

फिजिकल फिटनेस के लिए इतना करती हैं और मेंटल फिटनेस के लिए क्या करती हैं?
उसके लिए हमेशा खुश रहती हूं और अपने आस-पास के लोगों को खुश रखने की कोशिश करती हूं। साथ ही जिंदगी में आने वाली सफलता-असफलता और परेशानियों को ईश्वर की मर्जी मान कर स्वीकार कर लेती हूं।

यानी ईश्वर पर यकीन करती हैं?
मेरी परवरिश ऐसे माहौल में हुई है, जहां मुझे बचपन से यही सिखाया गया है कि सब कुछ ईश्वर की मर्जी से होता है, इसलिए जीवन में जो भी मिलता है उनका आदेश मानकर स्वीकार कर लो। जब भी मैं कोई काम शुरू करने जाती हूं तो सबसे पहले भगवान का आर्शीवाद लेती हूं। सच कहूं तो उनके प्रति यही आस्था मेरे संघर्ष में मुझे हिम्मत देती है।

रंगों के त्योहार को मनाती हैं?
मैं हर त्योहार को बड़े ही चाव से मनाती हूं, क्योंकि आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में ये त्योहार ही हैं जो हमें हमारे अपनों के करीब लेकर आते हैं और इन्हीं के बहाने हम उनसे मिल पाते हैं। रंगों का त्योहार होली मुझे बहुत पसंद है। इस दिन मैं बिल्कुल बच्ची बन जाती हूं और जो भी मिलता है सबको रंग लगाती हूं। आखिर यही एक दिन तो ऐसा होता है जिस दिन लोग सारे गिले शिकवे भूलकर एक-दूसरे से मिलते हैं और किसी भी बात का बुरा नहीं मानते हैं।

इस मौके पर किसी बात का खास ख्याल रखती हैं?
होली खेलने से पहले पूरे शरीर में तेल लगा लेती हूं ताकि रंग आसानी से निकल जाए। आजकल ऑर्गेनिक रंग बाजार में मिलते हैं जो स्किन को नुकसान नहीं पहुचाते हैं, मैं उन्हीं रंगों का इस्तेमाल करती हूं। रंगों के इस त्योहार को दिल से मनाती हूं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुस्कुराहट वाले रंग से मन खिल जाता है: रानी मुखर्जी