DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस 2012: अवसर इंजीनियर बनने का

इंजीनियर बनने के लिए जहां आईआईटी-जेईई तथा एआईईईई की परीक्षाएं महत्वपूर्ण हैं, वहीं इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस परीक्षा भी आपके इंजीनियर बनने के सपने को साकार कर सकती है।

आवेदन की अं.ति.- 26 मार्च 2012
परीक्षा की तिथि-15 जून 2012

औद्योगिक क्षेत्र में इंजीनियरिंग एक बड़े सेक्टर के रूप में स्थापित है। एक अनुमान के मुताबिक लगभग 40 लाख लोग प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से इंजीनियरिंग सेक्टर से जुड़े हुए हैं। जैसे-जैसे देश के इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास हो रहा है, ठीक वैसे ही योग्य एवं कुशल लोगों की मांग तेजी से बढ़ रही है। यह मांग प्राइवेट और सरकारी सेक्टर, दोनों जगह है। इसी को ध्यान में रखते हुए यूपीएससी द्वारा इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस परीक्षा (आईईएस) के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं, जिसकी परीक्षा प्रमुख इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं आईआईटी-जेईई तथा एआईईईई के बाद आयोजित की जाएगी। इसमें आवेदन ऑनलाइन व ऑफलाइन, दोनों ही तरीकों से किया जा सकता है। यह परीक्षा तीन दिन तक चलेगी। 15 जून को जनरल एबिलिटी टेस्ट, 16 जून को ऑब्जेक्टिव पेपर 1 व पेपर 2 तथा 17 जून को कन्वेंशनल पेपर 1 व पेपर 2 का आयोजन किया जाएगा। परीक्षा निम्न वर्गो के लिए की जाएगी-

सिविल इंजीनियरिंग
मैकेनिकल इंजीनियरिंग
इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
इलेक्ट्रॉनिक एंड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग

इंजीनियरिंग में डिग्री या डिप्लोमा
इस परीक्षा में वही उम्मीदवार भाग ले सकते हैं, जिन्होंने किसी मान्यताप्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से इंजीनियरिंग में डिग्री अथवा डिप्लोमा किया हो। एमएससी में एक विशेष विषय के रूप में यदि छात्र ने वायरलेस कम्युनिकेशन, इलेक्ट्रॉनिक्स, रेडियो फिजिक्स या रेडियो इंजीनियरिंग लिया है तो वह भी मान्य है। यह परीक्षा इंजीनियरिंग परीक्षा से मेल खाती है। इसका पैटर्न भी बहुत कुछ उसी जैसा होता है।

इसमें आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की आयु 21 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

लिखित परीक्षा तीन चरणों में

आईईएस परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है

जनरल एबिलिटी टेस्ट
ऑब्जेक्टिव टेस्ट
कन्वेंशनल टेस्ट

जनरल एबिलिटी टेस्ट- यह परीक्षा 200 अंकों की होती है तथा इसके लिए दो घंटे का समय निर्धारित है। परीक्षा सभी वर्गों के लिए एक समान होती है। इसमें पूछे जाने वाले प्रश्न सामान्य अंग्रेजी तथा सामान्य अध्ययन के होते हैं। सामान्य अंग्रेजी में उम्मीदवार से भाषा की समझ तथा शब्दों के कुशल प्रयोग की जांच की जाती है, जबकि सामान्य अध्ययन में समसामयिक घटनाओं से लेकर प्रतिदिन प्रयोग में आने वाले अनुभवों से प्रश्न आते हैं।

ऑब्जेक्टिव पेपर- इसके अंतर्गत दो पेपर आयोजित होते हैं। ये पेपर उम्मीदवार द्वारा चुने गए विषय से संबंधित होते हैं। इनमें पूछे जाने वाले प्रश्न ऑब्जेक्टिव टाइप के होते हैं तथा उसी विशेष विषय से संबंधित भी होते हैं। प्रत्येक पेपर के लिए कुल 200 अंक तथा दो घंटे का समय निर्धारित होता है।

कन्वेंशनल पेपर- इसके अंतर्गत भी दो पेपर शामिल हैं। प्रत्येक पेपर 200-200 अंक का होता है तथा प्रत्येक के लिए 3-3 घंटे का समय निर्धारित होता है। इसमें पूछे जाने वाले प्रश्न परंपरागत स्वरूप के होते हैं तथा उम्मीदवार द्वारा लिए गए विषय से संबंधित होते हैं।

पर्सनेलिटी टेस्ट भी है खास
लिखित परीक्षा में सफल होने के बाद उम्मीदवार को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है। यह 200 अंकों का होता है, जिसमें उम्मीदवार से संबंधित क्षेत्र के अलावा देश-दुनिया की जानकारी एवं उसकी पर्सनेलिटी पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। कुछ प्रश्न एकेडमिक करियर तो कुछ जॉब से संबंधित भी हो सकते हैं।

सेलेबस इंजीनियरिंग पाठय़क्रम पर आधारित
इस परीक्षा में उम्मीदवार ने जो स्पेशल विषय चुना है, प्रश्न भी उसी विषय पर आधारित होते हैं। इसके अंतर्गत बारहवीं से लेकर इंजीनियरिंग के सिलेबस से जुड़े प्रश्न पूछे जा सकते हैं, इसलिए छात्रों को अपनी तैयारी भी उसी ढंग से करनी होगी। ऑब्जेक्टिव पेपर में सफल होने के पश्चात ही कन्वेंशनल पेपर में बैठने की अनुमति दी जाती है।

करेंट अफेयर्स पर अपडेट रहें
जनरल एबिलिटी टेस्ट के लिए पत्र-पत्रिकाओं के अलावा वार्षिक रिपोर्ट का सहारा लें तथा महत्वपूर्ण घटनाओं के फॉलोअप पर विशेष ध्यान दें। सामान्य अंग्रेजी में पकड़ मजबूत बनाने के लिए शब्दकोश एवं ग्रामर की जानकारी बहुत फायदेमंद साबित होती है। कन्वेंशनल पेपर का उत्तर अंग्रेजी में देना होगा, क्योंकि तकनीकी शब्द होने के कारण पेपर अंग्रेजी में ही होते हैं।

निगेटिव मार्किंग से रहें सावधान
इस परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का प्रावधान है, इसलिए प्रश्नों का उत्तर देते समय पूरी सावधानी बरतें, अन्यथा फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। जिन प्रश्नों को लेकर मन में भ्रम की स्थिति हो, उसे छोड़ कर आगे बढ़ सकते हैं। बाद में समय मिलने पर वे इन प्रश्नों को एक बार जरूर देख लें। हो सकता है कि वे कुछ प्रश्न हल करने की स्थिति में हों। अधिक जानकारी एवं ऑनलाइन आवेदन के लिए उम्मीदवार यूपीएससी की वेबसाइट http://www.upsconline.nic.in पर विजिट करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस 2012: अवसर इंजीनियर बनने का