DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सतर्कता, खुशी फिर ढोल-नगाड़े

ढलती शाम लाल और हरे रंग से सराबोर। विक्रमादित्य मार्ग की सड़क पर जश्न फैल चुका है। ढोल-नगाड़े की थाप पर नाचते कदम थके ही नहीं। जीत का जश्न होली के रंग में रंग चुका है। सपा के प्रदेश मुख्यालय पर यही नजारा था। बाहर हजारों कार्यकर्ता व अंदर सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव व प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश यादव दोनों मौजूद।

सपा खेमे में आज की शुरुआत सतर्क तरीके से हुई। सांस बांधे नतीजों का इंतजार शुरू हुआ। खुद मुलायम सिंह व अखिलेश यादव सपा प्रमुख के सरकारी आवास पर टीवी के सामने बने रहे। पार्टी के इक्का-दुक्का नेता भी साथ। घड़ी की सूइयां आठ के पार हुईं और 15-20 मिनट में रुझान आने लगे। चेहरों पर मुस्कान बिखरने लगी। एक घंटे बाद स्थितियां कुछ और बेहतर। सपा खेमे में माहौल में खुशी बिखरने लगी। चुनावी ट्रेंड के आधार पर पार्टी ने जैसे ही डेढ़ सौ का आंकड़ा पार किया वहां मौजूद लोग इस आकलन में लग गए कि 200 का जादुई आकड़ा पार होगा या नहीं।

सपा कार्यालय में पल-पल माहौल बदलता गया। वक्त बढ़ने के साथ पार्टी की सीटों में भी बढ़त का रुझान आने लगा। ढोल-नगाड़े बजने लगे। होली के मौके पर दीवाली का जश्न हुआ। छोटे, मंझोले नेता और कार्यकर्ता एक-दूसरे का मुंह मीठा कराने लगे। मीडिया का भारी जमावड़ा सपा दफ्तर के बाहर लग गया। अखिलेश व नेताजी की बाइट का इंतजार होने लगा। विक्रमादित्य मार्ग लाल और हरे अबीर-गुलाल से सराबोर होता रहा।

सपा का शेष नेतृत्व यह मान कर चलने लगा कि अब सरकार बनाना बहुत दूर नहीं है। जो सीटें घट रही हैं उसके लिए समीकरण भी बनने लगे। मुलायम और अखिलेश पार्टी मुख्यालय पहुंचे तो जोरदार नारेबाजी हुई। जोश आसमां छूने लगा। लोगों के चेहरे खिल गए और दोनों नेताओं के चारों तरफ भीड़ जमा हो गई। बधाइयों का सिलसिला देर शाम तक चला। नाचती-गाती शाम लोकतंत्र का नया संदेश देती हुई ढल गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सतर्कता, खुशी फिर ढोल-नगाड़े