DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तराखंड में सरकार बनाने की जुगत में कांग्रेस, दावा पेश किया

उत्तराखंड में कड़े संघर्ष के बाद आखिरकार सीटों की संख्या के लिहाज से राजनीतिक तस्वीर साफ हो गई। कांग्रेस ने सत्ताधारी भाजपा के मुकाबले एक सीट अधिक जीतने के साथ ही सरकार बनाने की कवायद शुरू कर दी और राज्यपाल के समक्ष दावा भी पेश कर दिया। पार्टी के सूत्रों का कहना है कि वह निर्दलीय विधायकों के सहारे सरकार गठित करेगी।
   
राज्य की कुल 70 सीटों में से कांग्रेस ने 32 सीटें जीती हैं, जो बहुमत के जादुई आंकड़े से चार कम है। भाजपा को 31 सीटें मिली हैं।
   
कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पार्टी तीन निर्दलीय सदस्यों और उत्तराखंड क्रांति दल (उक्रांद) से समर्थन लेगी। उक्रांद (पी) को एक सीट मिली हैं। इन चार सीटों के सहारे कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा हासिल करने की कोशिश में है। पिछली बार आठ सीटें जीतने वाली बसपा को इस बार तीन सीटें मिली हैं। ऐसे में मायावती की पार्टी की भूमिका सरकार के गठन में महत्वपूर्ण हो सकती है। अब बसपा और अन्य उम्मीदवार तय करेंगे कि राज्य में अगली सरकार किसकी होगी, हालांकि कांग्रेस और भाजपा दोनों निर्दलियों को साथ लेकर अपनी स्थिति मजबूत करना चाहेगी।
   
कांग्रेस के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने के साथ ही पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज शाम राज्यपाल मार्गरेट अल्वा से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया। सूत्रों का कहना है कि कल पार्टी के विधायक दल की बैठक बुलाई गई है।
   
भाजपा को मुख्यमंत्री भुवन चंद खंडूरी की हार के रूप में बड़ा झटका लगा है। कोटद्वार सीट पर खंडूरी को कांग्रेस उम्मीदवार सुरेंद्र सिंह नेगी ने 4632 मतों से पराजित कर दिया। वर्ष 2000 में राज्य के गठन के बाद यह पहली बार है कि कोई मुख्यमंत्री चुनाव हारा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकार बनाने की जुगत में कांग्रेस, दावा पेश किया