DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चौक-चौराहों पर भी बनती बिगड़ती रही सरकार

मुंडेरा मंडी में काउंटडाउन चल रहा था, खबरिया चैनल पहला रुझान आने के बाद ही सरकार बनाने की गुणा-गणित बताने लगे थे इसी बीच शहर के चौक-चौराहों पर कभी उत्तरी से अनुग्रह के बढ़त की चर्चा रही तो कभी अतीक अहमद और पूजा पाल के बीच चल रही टक्कर की।

कटरा के मनमोहन पार्क चौराहे पर बैठे रविन्द्र तिवारी, राकेश और राजेन्द्र सरकार बनाने बिगाड़ने में मशगूल रहे। रविन्द्र जहां सपा की सरकार बनने की वकालत करते दिखे वहीं राकेश को इस बात का मलाल था कि इलाहाबाद में अभी तक भाजपा के लिए कोई शुभ संदेश नहीं आया।

इस बीच राजेन्द्र को मिली-जुली सरकार के आसार नजर आ रहे थे। यहां से कटरा की तरफ बढ़ने पर दुकानों पर युवाओं का हुजूम टीवी से चिपका नजर आया। इसमें प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवाओं की तादाद अधिक थी।

काफी धक्का-मुक्का के बीच इंप्लायमेंट ऑफिस में रजिस्ट्रेशन कराने वाले रईस अंसारी टीवी पर सपा की बढ़त देखकर खिलखिला उठे। इसी तरह बलिया के राजेश विश्वकर्मा को इलाहाबाद की जीत हार से उतना सरोकार नहीं दिखा, जितना लखनऊ में होने वाले फेरबदल से था। उनका साफ कहना था यहां का विधायक कोई हो, लखनऊ में जो गद्दी संभालेगा नीति वही बनाएगा।
चौक इलाके में व्यापारियों की निगाहें भी टीवी पर जमी रहीं। यहां पर कभी पश्चिमी में अतीक और पूजा पाल के टक्कर की चर्चा थी तो कभी उत्तरी विधानसभा प्रत्याशी अनुग्रह नारायन सिंह और हर्षवर्धन बाजपेयी के बीच कांटे की टक्कर की। यहां पर अनुग्रह की बढ़त के लिए उनकी सादगी का उदाहरण दिया जा रहा था। सबसे अधिक चर्चा शहर दक्षिणी में हुए उलटफेर की रही। यहां पर कयास के विपरीत परवेज अहमद टंकी के बढ़त बनाने पर सभी को हैरानी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चौक-चौराहों पर भी बनती बिगड़ती रही सरकार