DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विपक्ष का हंगामा, वेल में नारेबाजी, सदन से वॉकआउट

बिहार विधानसभा में मंगलवार को विपक्ष फिर तेवर में दिखा। बैंक लूट की घटनाओं के बढ़ने के अलावा बैंक अधिकारी और व्यवसायी की हत्या के विरोध में विपक्ष ने सदन में हंगामा किया। विपक्ष ने कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया, लेकिन वह अस्वीकृत हो गया।

इस पर विपक्षी सदस्य वेल में आकर नारेबाजी करने लगे। इसके पहले नामांकन मामले में अपनी बात नहीं कहने देने का आरोप लगाते हुए विपक्ष ने दो मिनट के लिए सदन से वॉक आउट भी किया।

प्रतिपक्ष के नेता अब्दुलबारी सिद्दिकी ने सदन की कार्यवाही शुरू होते ही राजधानी में हत्या और लूट की घटनाएं बढ़ने का आरोप लगाते हुए सरकार से वक्तव्य देने की मांग की। शून्यकाल के बाद विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने राजद के सम्राट चौधरी के कार्यस्थगन प्रस्ताव को अस्वीकृत कर दिया।

फिर प्रतिपक्ष के नेता ने विधानसभा अध्यक्ष से कार्यस्थगन प्रस्ताव को ध्यानाकर्षण सूचना में परिवर्तित करने की मांग की। अपनी मांग अनसुनी होते देखकर राजद के सभी विधायक वेल में आ गए और ‘हत्या, लूट, डकैती बन्द करो-बन्द करो’ के नारे लगाने लगे। वे नारेबाजी करते हुए रिपोर्टर्स टेबुल को भी पिटने लगे।

सिद्दिकी ने कहा कि विशेष परिस्थिति में सदन में सरकार को वक्तव्य देना पड़ता है। कंकड़बाग में व्यापारी की हत्या और पीएनबी के मैनेजर की हत्या कर दी गई है। पटना सुरक्षित नहीं है। उन्होंने कहा कि सुशासन की खुल गई पोल-चाहे पीटो जितना ढोल। इस पर जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी ने जवाब दिया कि सरकार उत्तर देने को तैयार है।

जो घटनाएं घटी हैं वो निन्दनीय है। ईमानदारी से जांच की जा रही है। मुस्तैदी से जांच कर निष्पक्ष कार्रवाई होगी। विपक्ष को चश्मा उतार कर देखना होगा। इसी सत्र में सरकार इन घटनाओं पर बयान देगी। वैसे गृह विभाग की मांग पर बहस के दौरान विपक्ष अपनी पूरी बात कह सकता है। संसदीय परंपराओं के अनुरूप आचरण से सदन चलता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विपक्ष का हंगामा, वेल में नारेबाजी, सदन से वॉकआउट