DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कौन करेगा राज, फैसला आज

चुनाव आयोग और राजनीतिक दलों की दो माह की मशक्कत के बाद फैसले की घड़ी आ ही गई। 2,33,841 ईवीएम मशीनों में बंद उम्मीदवारों के भाग्य का पिटारा मंगलवार को शुरू हो जाएगा और 12 बजे तक साफ हो जाएगा कि प्रदेश में कौन सी पार्टी सरकार बनाएगी। 

इस बार चुनावों को सफल बनाने के लिए आयोग ने नए-नए तरीके आजमाए जो पूरी तरह सफल रहे। सबसे बड़ी बात यह रही कि इन तरीकों में अतिरिक्त खर्च नहीं हुआ। सिर्फ मौजूदा मशीनरी का सही इस्तेमाल किया गया। यूथ आईकॉन ने भी इसमें अपनी मुफ्त सेवाएं दीं। नए तरीके सही ढंग से काम कर रहे हैं कि नहीं, इस पर निगरानी के लिए भी 122 जारूकता प्रेक्षक भी नियुक्त किए थे।

आयोग के महानिदेशक अक्षय राउत नेबताया कि यह एकदम नया प्रयोग था जिसका मकसद इन प्रक्षकों से फीडबैक लेना था कि जागरुकता में कहां कमी रह गई है। यहां तक कि वेलेंटाइन डे को भी आयोग ने ‘वी’ फॉर वेलेंटाइन और ‘वी’ फॉर वोट से जोड़ा, जिसका युवाओं पर काफी असर पड़ा।

सफाई कर्मचारियों का योगदान
आयोग ने वोटर सहभागिता बढ़ाने के लिए सफाई कर्मचारियों की सेवाएं भी ली। इन्होंने भी अपने क्षेत्रों में लोगों से वोट देने की अपील की। वहीं स्कूलों में जागरुकता कार्यक्रम चलाए गए और बच्चों से कहा गया कि वे माता-पिता से वोट जरूर डालने को कहें। इसके लिए उन्हें अलग से वेटेज अंक देने की व्यवस्था शुरू की गई। यही वजह रही कि आमतौर पर उदासीन रहने वाले शहरों में मतदान में 98.5 फीसदी तक उछाल आया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कौन करेगा राज, फैसला आज