DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रंजिशन ग्रामीण को गोलियों से भून डाला

 मथुरा, निज संवाददाता।

मगोर्रा समीपवर्ती गांव नगला झींगा में भाई की मौत का बदला पूरे एक वर्ष बाद सोमवार देर रात को मौत से लिया। हत्यारोपी के दिल में इतनी नफरत थी कि वह तब तक गोली मारता रहा जब उसे मौत की नींद नहीं सुला दिया। हत्यारोपियों ने कई हथियारों से दर्जनों फायर किए थे। गांव में भय का वातावरण पैदा हो गया है। लोग पुलिस के पहुंचने पर कुछ भी बताने से डर रहे हैं।

थाना मगोर्रा पुलिस ने गांव पहुंच कर घटनास्थल का निरीक्षण किया। शव को देर रात पोस्टमार्टम भेज दिया गया है। महीपाल (40वर्ष) पुत्र अमीचंद निवासी नगला झींगा सोमवार को देर रात आलू की खुदाई कर घर लौट रहा था। अभी वह गांव के बीच में ही पहुंचा था कि पहले से तैयार मौहकम सिंह पुत्र शेरसिंह व उसके साथियों ने उसे घेर लिया। उसके ऊपर फायरिंग शुरु कर दी। वह जान बचाकर खेतों की ओर भागा।

हमलावर भी पीछे से फायरिंग करते हुए भागने लगे। महिपाल घायल होकर खेत में गिर गया। इसके बाद हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर उसे मौत की नींद सुला दिया। हमलावर इतने क्रोध में थे कि उन्होंने मृतक के मुहं पर चार-पांच गोलियां मार दी। एक गोली तो उसके मुंह में तमंचा लगाकर मारी गई बताई जा रही है। हमलावरों उद्देश्य उसे जान से मारना था। खेत में काम कर रहा महिपाल का भतीजा मानवेंद्र उसे बचाने आया तो उसे भी गोली मार दी गई। गोली उसके हाथ को भेदती हुई निकल गई। गोली लगने के बाद मानवेंद्र जान बचाने को जंगल में छिप गया। अन्य परिजन भी जंगल में भग गए। हत्या की पृष्ठभूमि में हत्याभियुक्त मौहकम सिंह के भाई रंधीर का एक वर्ष पूर्व छाता में रेलवे क्रासिंग के समीप हुई हत्या का बदला बताया जा रहा है।

थाना मगोर्रा प्रभारी पंकज राय ने बताया कि हमलावरों ने मृतक महिपाल को गांव में घुसते ही घेर लिया था। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हत्याभियुक्तों ने यहीं से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी थी। मृतक जान बचाकर खेतों की ओर भागा तो उसे वहां पर घेर कर मौत की नींद सुला दिया। हमलावर भाग जाने में सफल हो गए हैं। पुलिस ने उनके घरों पर दबिश भी दी, लेकिन कोई नहंी मिला। घटनास्थल का सीओ सदर आशुतोष मिश्रा ने निरीक्षण किया। बाक्स.. कहां जाकर थमेगा हत्या का सिलसिला मथुरा। ग्रामीणों में अजीब सी दहशत बनी हुई है। कोई समझ नहीं पा रहा है कि अब यह खूनी रंजिश किस मोड़ पर जाकर रुकेगी। दोनों परिवारों में एक-एक युवक की हत्या हो चुकी है। इससे पहले भी कई बार मारपीट की घटनाएं हो चुकी हैं। लोगों मेंडर इस बात का भी है अब पता नहीं किस का नंबर आयेगा। मृतक कुछ दिन पहले ही जेल से रिहा होकर निकला था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रंजिशन ग्रामीण को गोलियों से भून डाला