DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सचिन क्यों खेल रहे वनडे

भारत को वर्ल्ड कप जीतते देखना एक सुखद अहसास था। किसी भी मेजबान देश ने यह करिश्मा नहीं किया था। धौनी एंड कंपनी ने देश के सपने को पूरा किया। यह जीत इसलिए भी खास थी कि सचिन जैसा हमारे समय का महान खिलाड़ी इसका हिस्सा था। इसीलिए मेरा मानना है कि वर्ल्ड कप जीत के तत्काल बाद सचिन को वन-डे से संन्यास ले लेना चाहिए था। मेरी समझ में नहीं आता कि वह वन-डे खेल क्यों रहे हैं।

मुझे नहीं पता, सचिन के मन में क्या चल रहा है। उन्होंने कभी इसका खुलासा नहीं किया। मैं मानता हूं कि एक खिलाड़ी को अधिक नहीं बोलना चाहिए। लेकिन चंद साल खेलने के बाद जब खिलाड़ी खेल और खुद को बेहतर समझने लगे तो उसे जरूर अपने विचार रखने चाहिए।
तेंदुलकर, द्रविड़ और लक्ष्मण भारतीय क्रिकेट के गोल्डन ब्वाय रहे हैं। लेकिन ये सभी ऐसे पड़ाव पर हैं जब उम्र उनके खिलाफ है। एक क्रिकेटप्रेमी देश होने के नाते क्या हमें उनकी योजनाओं के बारे में जानने का हक है? क्या सेलेक्टर्स को उनकी योजना का पता है?

युवा लेग स्पिनर राहुल शर्मा जैसा खिलाड़ी जिसे 15 प्रथम श्रेणी मैच का अनुभव हो और जिसने 25 विकेट लिए हों, उसे घरेलू स्तर पर बेहतर कर रहे दूसरे खिलाड़ियों की जगह क्यों चुन लिया जाता है? यदि ऐसे ही खिलाड़ियों को चुनना है तो खत्म कर दीजिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट।

आखिर चयन का पैमाना क्या है? धौनी को मालूम तो होना चाहिए कि उन्हें कोई टीम क्यों मिल रही है। धौनी ने इंग्लैंड से पहले टेस्ट के दूसरे ही दिन खुद क्यों गेंदबाजी की? क्या वह ऐसा संदेश देना चाहते थे कि उनके पास 90 ओवर फेंक सकने वाले गेंदबाज नहीं? क्या उन्हें पसंद की टीम नहीं मिल रही?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सचिन क्यों खेल रहे वनडे