DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

256 विद्यार्थियों को मिला न्याय, देंगे परीक्षा

 जौनपुर। निज संवाददाता।

वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय से संबद्ध श्रीराम डिग्री कालेज (निगोह) के विद्यार्थियों के पक्ष में हाईकोर्ट ने फैसला किया है। कोर्ट ने पूविवि प्रशासन को आदेश दिया है कि दो वर्ष भटक रहे विद्यार्थियों की परीक्षा वर्ष 2012 कराकर उनका रिजल्ट घोषित किया जाय। हाईकोर्ट के फैसले से विद्यार्थियों में खुशी है। उन्होंने कहा कि उनका भविष्य अंधकारमय होने से बच गया। वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग ने वर्ष 2010 में श्रीराम डिग्री कालेज के स्नातक द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों की परीक्षा रोक दी थी। विश्वविद्यालय प्रशासन पर आरोप था कि बिना मान्यता ही विद्यार्थियों का प्रवेश ले लिया गया। उनकी परीक्षा नहीं करायी गयी। कॉलेज प्रशासन व विद्यार्थी कोर्ट चले गए। पूर्वाचल विश्वविद्यालय के अधिकारियों पर भेदभाव का आरोप लगाया गया। कॉलेज प्रबंधन ने यह भी कहा कि सारे विद्यार्थियों का प्रवेश जायज है।

अधिवक्ताओं ने कोर्ट को यह भी बताया कि मानक संबंधी पत्रावली विवि प्रशासन ने जबरन रोक रखी है। कॉलेज प्रबंधन ने आरोप लगाया कि मान्यता संबंधी फाइल आगे बढ़ाने के लिए सुविधा शुल्क की मांग की गयी। सुविधा शुल्क न देने पर श्रीराम डिग्री कॉलेज (निगोह) के विद्यार्थियों की परीक्षा रोक दी गयी। कोर्ट ने तमाम दलीलें सुनने के बाद पूविवि प्रशासन को आदेश दिया कि वह श्रीराम डिग्री कॉलेज के विद्यार्थियों के फार्म जमा करके वर्ष 2012 में उनकी परीक्षा कराकर रिजल्ट घोषित करे। हाईकोर्ट के आदेश के बाद कुलपति प्रोफेसर सुंदरलाल ने श्रीराम डिग्री कॉलेज (निगोह) के विद्यार्थियों की परीक्षा कराने का नियंत्रक को निर्देश दिया है। इस संबंध में परीक्षा नियंत्रक आरएस यादव ने कहा कि सभी 256 विद्यार्थियों की परीक्षा 2012 की मुख्य परीक्षा के साथ करायी जाएगी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:256 विद्यार्थियों को मिला न्याय, देंगे परीक्षा