DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवजात का दिमाग पढ़ेगी मशीन

दक्षिण इंग्लैंड स्थित लैक्रोमैड नामक संस्था ने ‘सीएफएम’ यानी ‘सेरीब्रल फंक्शन मॉनिटर’ नाम से एक ऐसी मशीन बनाई है, जो चंद सेकेंड्स में ही नवजात शिशुओं के मस्तिष्क का हाल बता देती है। सामान्य ईईजी (इलैक्ट्रो एंसिफेलोग्राम) मशीनों से आकार में दस गुना छोटी ‘सीएफएम’ मशीन पोर्टेबल है और केवल 5,000 पौण्ड में उपलब्ध है।

कई बार गर्भ में शिशुओं को ऑक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ता है या फिर उन्हें पर्याप्त ग्लूकोज नहीं मिल पाता और उनके खून में उसकी कमी हो जाती है। इस कारण या किसी संक्रमण अथवा मिर्गी के दौरे भी नवजात शिशु के मस्तिष्क को क्षति पहुंचा सकते हैं। जन्म के समय ही इसका पता चलने पर फौरन इलाज किया जा सकता है और बच्चाे को बाद की परेशानियों से बचाया जा सकता है।

इस मशीन से ‘सेरीब्रल पालसी’ के रोगी शिशुओं का भी तुरंत पता चल जाता है, नहीं तो इस रोग से ग्रस्त शिशु बड़े होने पर अनेक प्रकार की अपंगताओं से त्रस्त रहते हैं।

इस मशीन से डॉक्टर वाइटलॉ और उनके सहयोगियों ने ऐसे अनेक मस्तिष्क विकारों का उपचार खोज लिया है, जिनका अभी तक कोई इलाज नहीं था। ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई मस्तिष्क की क्षति के उपचार के लिए एक ऐसी ठंडी टोपी बनाई गई है, जो नवजात शिशु के सिर पर पहना दी जाती है। पानी से भरी यह टोपी मस्तिष्क में क्षति पहुंचाने वाली क्रिया को बेहद घटा देती है।
कुलदीप शर्मा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नवजात का दिमाग पढ़ेगी मशीन