DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होली के बहाने, वुमंस डे के फसाने

आठ मार्च को होली के साथ महिला दिवस भी है। इस दोनों मौकों पर बॉलीवुड में दाउद फैन्स क्लब ने आदर्श माता प्रतियोगिता आयोजित की थी। इस प्रतियोगिता में कई अदाकाराओं ने शिरकत की। नई पुरानी समेत कई हीरोइनों में आदर्श मां का खिताब पाने की होड़ सी लग गई।

होली थी और आठ मार्च को महिला दिवस भी। बॉलीवुड में दाउद फेन्स क्लब ने आदर्श माता प्रतियोगिता आयोजित की थी। संस्था के ब्रोशर में बताया गया था कि हीरोइंस चाहे वे जितनी सफल हों, सुपर स्टार हों और करोड़ों कमाती हों, तब भी वे अपने इंटरव्यूज में कहती रहती हैं कि वे एक महान भारतीय नारी, पत्नी और मां बनना चाहती हैं। तो भाई ने सोचा कि क्यों न लाखों दिलों की मलिकाओं और अपनी बहन सरीखी इन स्त्रियों की इस महान भावना को वाणी दी जाए। जैसे ही यह निमंत्रण मिला, वे हीरोइंस जिन पर फ्लॉप का तमगा लग गया था, जिनकी फिल्मों को कोई फाइनेंस करने को तैयार नहीं था और जो अविवाहित थीं, उनमें हाहाकार मच गया- हे ईश्वर, सुनहरा मौका इस तरह तो हाथ से नहीं जाना चाहिए।

काश कि हमारे भी दो चार बाल-बच्चों होते और दाउद भइया की नजर हम पर भी पड़ जाती। दुबई कनेक्शन हमारे भी कुछ काम आता। लेकिन तभी उन्हें अपनी भरी हुई आंखों में नीना गुप्ता और सुष्मिता सेन की तसवीरें दिखाई दीं। बस जिसको जहां दिखा वहां से वे सब मां होने का सर्टिफिकेट लेने दौड़ पड़ीं।

इस आयोजन की खबर सुनकर ऐश्वर्य राय ने अपनी नीलकमल जैसी आंखें झपकाते बिग बी से पूछा-पा, क्या करूं? बेटी बी की तसवीरें आप खिंचवाने नहीं देंगे और वहां इसे ले जाना जरूरी है। मीडिया से इसे कैसे बचाऊंगी। बिग बी ने कहा-बहूरानी मुझे तो यह सीआईए का कोई खेल लगता है। देखना हर बात पर पुलिस की नजर होगी। तुम तो बस टल्ली मारो।

लेकिन पा क्या दाउद इस बात का बुरा नहीं मानेंगे। यह तो मेरे करियर के लिए अच्छा नहीं होगा। वैसे ही महीनों से घर पर बैठी हूं। फिर कोई और आदर्श मां बनकर मीडिया में छा जाए और उसे दाउद का बैनर भी मिल जाए, यह तो भारी नुकसान हो जाएगा। आप ही बताइए मुझ से ज्यादा आदर्श मां कौन सी होगी। बच्ची के नहलाने-धुलाने से लेकर उसकी नैपी तक चेंज करती हूं।

ऐश्वर्य की यह बात सुनकर बिग बी उठ खड़े हुए और अपने घर में गणेश जी की प्रतिमा के सामने ऐग्री यंग मैन के स्टाइल में बोले-हे विघ्न विनाशक मैंने तुम से आज तक कभी कुछ नहीं मांगा। जीवन भर तुम्हारी पूजा की है। नंगे पैर चलकर तुम्हारे मंदिर तक गया हूं। आज तक दुखते हैं। एक बार तो अभिऐश को भी ले गया था। अब क्या इतनी सी बात पूरी नहीं करोगे। मेरी बहू को बिना वहां जाए आदर्श मां का खिताब नहीं दिलवा सकते।  डॉयलॉग बोलते-बोलते बिग बी की सांस फूल गई। खांसी आने लगी। अभी बीमार होकर चुके थे। बहू दौड़कर उनके लिए पानी ले आई।

उधर लारा दत्ता खुशी से फूली नहीं समा रही थीं। उनके डूबते फिल्मी करियर को उनकी बेटी ऐसे सहारा देगी कि सीधे दाउद की नजर उन पर पड़ जाए, ऐसा तो कभी सोचा भी न था। वाह री लक्ष्मी। उन्होंने फौरन पार्लर वाली को बुक किया, और अपना आउटफिट सिलने दे दिया।

लेकिन शिल्पा शेट्टी का का रो-रोकर बुरा हाल था। जब से उन्होंने इंग्लैंड में बिग बॉस जीता था तब से उनके सितारे बुलंदियों पर थे। मगर अब क्या करें? उनका बच्चा तो मई में होना था। ओह, काश कि यह कुछ पहले पैदा हुआ होता। उन्हें लगा कि जैड गुडी ऊपर बैठकर खूब खुशियां मना रही होगी कि इस प्रतियोगिता से तो वह बिना भाग लिए ही बाहर कर दी गई थीं। कोई रंगभेदी कमेंट करने की भी जरूरत नहीं पड़ी।

पर मोनिका बेदी खुशी से उछल रही थी। उसने अपनी मदद करने वाले एक मित्र को फोन करके कहा था- अहसान तेरा होगा मुझ पर. बस एक बार इस प्रतियोगिता का चीफ गेस्ट बनवा दो। जब से अबू सलेम जेल में गया है सारे लगवे -भगवे मुझे आंख दिखा रहे हैं। दाउद  का सहारा होगा तो फिल्में भी मिलेंगी और रुतबा भी बढ़ेगा। बेचारा मित्र । उसने हाथ खड़े कर दिए- इसमें मैं क्या करूं। तुम्हें मां कहां से बना दूं। तभी तो तुम चीफ गेस्ट बनोगी।

इस पर मोनिका शरमाते हुए बोली- हटो भी , कैसी-कैसी बातें करते हो? एक कुआंरी कन्या से ऐसी बातें करते शरम नहीं आती। उसी शाम मंदाकिनी ने ट्वीट किया- इस प्रतियोगिता में तो मैं बिना भाग लिए ही जीत सकती हूं। आखिर मैं तो दाउद के ही बच्चों की मां हूं। अब बुद्ध भगवान की शरण नें चली गई तो क्या?

शर्मिला टैगोर हेमा से बोलीं- ये आज की छोकरियां अपने को समझती क्या हैं? अरे, तुमसे अच्छी कोई मां होगी जिसने ऐशा के लिए टैल मी ओ खुदा बना दी। खुदा ने मदद नहीं की और फिल्म नहीं चली तो कोई क्या करे?

हेमा शर्मिला के व्यंग्य को समझते मुसकराईं- हां बहन तुम भी कौन सी कम हो? सुनते हैं कि पिता अकसर अपने प्रोफेशन में बच्चों को लगाते हैं मगर तुमने तो मां होकर भी अपने दो-दो बच्चों को यहां सैटल कर दिया।

तभी आसमान से मीनाकुमारी की आत्मा चिल्लाई- दुनिया की सबसे अच्छी मां के तमगे की हकदार मैं हूं। मैं मां न बन सकी मगर जीवन भर बच्चों के लिए हर रोज सेर-सेर भर आंसू बहाती रही।

दाउद ने जब मीना कुमारी की आवाज सुनी तो भूत- प्रेत का साया समझकर उई मां कहता हुआ भागा। उसकी एके छप्पन एक ओर गिर पड़ी। प्रतियोगिता होने से पहले रद्द हो गई। ऐश्वर्य ने चैन की सांस ली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:होली के बहाने, वुमंस डे के फसाने