DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैसे चुनें अपने सपनों की कार

कैसे चुनें अपने सपनों की कार

कभी मन करता है कि हमारे बजट में फलां कार ठीक रहेगी तो दूसरे ही पल लगता है कि इतने बजट में क्यों न किसी ऑथराइज्ड डीलर से सेकेंडहैंड कार खरीद ली जाए, या कार में कुछ खास फीचर्स के बगैर कैसे बात बनेगी। आइए जानते हैं कौन-सी कार है आपकी, बता रहे हैं पंकज घिल्डियाल

मार्केट में हर तरह की कार हैं। यह खरीदार पर निर्भर करता है कि उसकी प्राथमिकताएं क्या हैं? ईंधन की बचत, स्टाइलिश लुक, सेकेंड हैंड या फिर रीसेल वैल्यू। जी हां, ऐसे ही सवालों से हम खुद को घिरा पाते हैं, जब हम कार खरीदने के लिए अपने कदम बढ़ाते हैं। सचमुच यह फैसला मुश्किल हो जाता है कि आखिर किस कार को खरीदना फायेदमंद रहेगा। आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही सवालों के बारे में, जो आपको कार खरीदने से पहले खुद से पूछने चाहिए।

कार नई या सेकेंड हैंड
नई कार खरीदने से यह अंदाजा नहीं लगाना चाहिए कि आपने एकदम परफेक्ट कार का चुनाव किया है। नई कार में भी खराब डिजाइनिंग और मैन्युफैक्चरिंग डिफेक्ट्स देखे जाते हैं, जिनकी मरम्मत वारंटी के दौरान की जाती है। इसी तरह पुरानी कार की खरीदारी भी कुछ हद तक एक जुआ है। आपको नहीं पता चल पाता कि फलां गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ है या नहीं, उसकी सही माइलेज क्या है, इसके मालिक ने इसे कैसे मेंटेन किया था। इंजन की कई समस्याएं टेस्ट ड्राइव करने से भी नहीं पता चल पातीं। वारंटी के खत्म हो जाने के बाद मेंटेनेंस पर आने वाला खर्च कितना होगा, आपको नहीं पता होता। वैसे पहले के मुकाबले पुरानी कारों को खरीदना अब अधिक भरोसेमंद है। खरीदने से पहले किसी ऑटो एक्सपर्ट से जांच करवाई जा सकती है। सेकेंड हैंड कार की खरीदारी में ट्र वैल्यू सर्विस जैसी अन्य सेवाएं, जैसे फर्स्ट च्वॉइस, रियल वैल्यू, एडवांटेज और बॉस इंजीनियरिंग आदि कंपनियां मार्केट में हैं। इन सेवाओं की खास बात यह है कि आपके बजट से मेल खाती कोई न कोई कार जरूर मिल जाती है। आजकल पुरानी गाड़ी खरीदने पर कॉम्प्रिहेंसिव वारंटी दी जाती है। न्यू रजिस्ट्रेशन, कीमतें मॉडल व वर्ष अनुसार, फाइनेंस की सुविधा, कंपनी के इंजीनियर का जारी प्रमाण-पत्र आदि इस सर्विस के फायदे हैं।

किस मॉडल को अपना बनाएं
सबसे पहले अपने बजट के अनुसार किन्हीं तीन गाड़ियों को चुनें। उन तीन गाड़ियों में देखें के परफॉरमेंस, मेंटेनेस, रीसेल वैल्यू व आरामदायक सफर किस में है? आप चाहें तो हर फीचर के लिए उन्हें अंक देकर चुनाव कर सकते हैं। शानदार सवारी के लिए अगर कार की कीमत खरीदारी में आड़े नहीं है तो होंडा सिटी जैसी लग्जरी कारों की तरफ नजरें घुमाई जा सकती हैं। स्मॉल कार कैटेगरी में डीजल कारों में फॉक्सवैगन की पोलो, इंडिका डी और पालियो डी आदि, जबकि डीजल सेगमेंट में इंडिका खरीदारों की हमेशा से ही पहली पसंद रही है। अगर आप पेट्रोल स्मॉल कार की ड्राइविंग सीट पर बैठना चाहते हैं तो आपके सामने कई विकल्प हैं, जैसे मारुति 800, इंडिका पेट्रोल सेंट्रो, ऑल्टो, वैगन आर, पालियो, गेट्ज, कोरसा, शेवरले एवियो, स्पार्क, मारुति स्विफ्ट, डिजायर आदि।

ऑटोमेटिक या मैन्युअल ट्रांसमशन
मैन्युअल ट्रांसमीशन की कारें सस्ती, शक्तिशाली और भरोसमंद होती हैं। जानकार कहते हैं कि मैन्युअल कार की ड्राइव में अधिक मजा है। वहीं ऑटोमैटिक ट्रांसमीशन कार को शहरों की भीड़-भाड़ में चलाना ज्यादा आसान है। ऑटोमैटिक ट्रांसमीशन की रिपेयर भी कुछ मुश्किल होने के साथ महंगी भी होती है। इसके अलावा मैन्युअल के मुकाबले 1.3 गुना अधिक ईंधन की खपत भी ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन में होती है।

कार फ्यूल इकोनॉमिक है या नहीं
सीएनजी या एलपीजी वाहन अपना कर आप पैसे की बचत तो करते ही हैं, साथ ही अच्छी माइलेज भी देते हैं। आजकल ऐसी गड़ियों की कोई कमी नहीं है, जो कंपनी फिटेड सीएनजी या एलपीजी के साथ शो रूम में आपका इंतजार कर रही हैं, जैसे वैगन आर, सेंट्रो, ओमिनी, ऑप्ट्र आदि, वहीं बाहर से भी किट लगवाना एक अतिरिक्त विकल्प है।

मेंटेनेंस व इंश्योरेंस का खर्चा होगा कितना
मारुति के बारे में अक्सर कहा जाता है कि आज भी मारुति सुजुकी की गड़ियों को मेंटेंन करने का खर्च अन्य के मुकाबले कम होता है। किसी की बातों में न आएं, जिस गाड़ी का चुनाव कर रहे हैं उसके महंगे पार्ट्स की तुलना अन्य से जरूर करें। इसके अलावा किसी कार के चुनाव से पहले जान लेना बेहद जरूरी है कि आपके पसंदीदा डिजाइन वाली कार के लिए इंश्योरेंस पर कितना पैसा चुकाना पड़ेगा।


क्या सुरक्षा से समझौता करेंगे
नए जमाने के एबीस न केवल अपनी कार्यप्रणाली, जैसे व्हील लॉकिग में कारगर हैं, वहीं ट्रैक्शन कंट्रोल, ब्रेक असिस्ट और इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल पर नियंत्रण रखते हैं। एबीस का इस्तेमाल बर्फीले इलाकों और ऐसे इलाकों में होता है, जहां फिसलन भरी रोड में ड्राइव करना हो। इसलिए आप अगर सामान्य स्थिति में ड्राइव करते हैं तो यह आप ही को सोचना होगा कि अतिरिक्त पैसे चुकाना आपके लिए कितना जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैसे चुनें अपने सपनों की कार