DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गूगल ने मानी गलती, आपत्तिजनक कंटेंट हटाया

अमेरिकी सर्च इंजन गूगल इंक ने आपत्तिनजक सामग्री के प्रकाशन मामले में पहली बार अपनी गलती मानी है। दिल्ली की एक अदालत में गुरुवार को दायर शपथपत्र में उसने कहा है कि साइट पर आपत्तिजनक सामग्री मौजूद थी, मगर गूगल इंडिया की ओर से सचेत किए जाने के बाद इसे हटा लिया गया।

गूगल इंक ने यह भी कहा कि सेवा प्रदाता कंपनी होने के नाते साइट अपनी जिम्मेदारी समझती है। उसके पास संबंधित पक्षों के अधिकारों और हितों की रक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपनी एक प्रणाली है, जिसे समय-समय पर जांचा जाता है। साइट ने कहा कि उसका मकसद भारतीय संस्कृति को नीचा दिखाना नहीं है।

लिहाजा उसके खिलाफ दाखिल दीवानी शिकायत को खारिज कर दिया जाए। उधर, अदालत ने माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के खिलाफ दायर शिकायतपत्र को खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि यह वेबसाइट लोगों को एक-दूसरे से जुड़ने का रास्ता प्रदान नहीं करती। न ही इस पर लोग अपने विचार साझा सकते हैं। ऐसे में इसे सोशल साइट में शामिल करना सही नहीं। कोर्ट ने कहा कि वादी मुफ्ती एजाज अरशद कासमी ने बेवजह माइक्रोसॉफ्ट इंडिया को प्रतिवादियों की सूची में शामिल कर दिया।

उसने कासमी को माइक्रोसॉफ्ट को पांच हजार रुपये का जुर्माना देने का आदेश दिया। ऑरकुट और यू-टय़ूब की तरफ से भी अदालत में लिखित जवाब दाखिल किया गया। इससे पहले फेसबुक, याहू इंडिया और माइक्रोसॉफ्ट ने जवाब पेश करते हुए मामला खारिज करने की मांग की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गूगल ने मानी गलती, आपत्तिजनक कंटेंट हटाया