DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वैष्णवी गैस एजेंसी संचालक के खिलाफ ठगी का मामला दर्ज

वैष्णवी गैस प्राइवेट लिमिटेड के संचालक मनोज कुमार के खिलाफ लालपुर थाने में जालसाजी का मामला दर्ज कराया गया है। मूल रूप से गया के उचौली, खिजसराय के रहने वाले मनोज के ऊपर कंपनी से जुड़े 70 अधिकारियों एवं इंजीनियरों से 24 लाख से भी अधिक रुपये ठगने का आरोप है।

एफआईआर दर्ज होने के बाद से वैष्णवी गैस प्राइवेट लिमिटेड का तिवारी भवन और सीके सहाय कंपाउंड का दफ्तर भी बंद पड़ा है। मनोज ने सभी इंजीनियरों से गैस प्लांट में नौकरी देने की बात कह सिक्यूरिटी मनी के तौर पर 35- 40 हजार रुपये वसूले थे। इसके बाद जनवरी महीने में 70 लोगों को नियुक्त भी किया था। लेकिन महीना पूरा होने के बाद जब इंजीनियर तनख्वाह के लिए पहुंचे तो मनोज ने पैसे देने से इंकार कर दिया। ऐसे में जब कर्मचारियों ने दबाव बनाया तब मनोज भाग निकला। इस मामले में कंपनी के एचआर गौतम कुमार शुक्ला के बयान पर एफआईआर दर्ज किया गया है।

डीएसपी को नौकरी पर रख नहीं दी सैलरी
चौंकाने वाली बात ये है कि मनोज ने रिटायर्ड डीएसपी नारायण सिंह को भी गैस एजेंसी में बतौर जेनरल मैनेजर रखा था। इस बावत लालपुर थाना पहुंचे नारायण सिंह ने कहा कि अक्तूबर महीने में उन्होंने वैष्णवी गैस एजेंसी ज्वाइन किया था। तब मनोज ने अनगड़ा में गैस प्लांट खोलने की बात कह इंजीनियरों को बहाल किया। लेकिन काम शुरू होने के बाद किसी को पैसा नही दिया गया। रिटायर्ड डीएसपी ने बताया कि उन्हें भी तीन महीने की सैलरी नही दी गई। सैलरी के लिए दबाब बनाने और सिक्यूरिटी मनी मांगे जाने पर मनोज भाग खड़ा हुआ।


गया पुलिस तलाश में आयी थी रांची

मनोज के ऊपर गया में भी जालसाजी का मामला दर्ज है। गया में मनोज गरीबनवाज गैस का डिस्ट्रीव्यूटर था, इस दौरान डीलरशिप दिलवाने के नाम पर मनोज ने 12 लाख की ठगी की थी। इस मामले में बुधवार को गया पुलिस की टीम रांची भी आयी थी। गौरतलब है कि इससे पहले 17 जनवरी को मनोज से पैसे लेने आए एक युवक को उसने बंदूक लेकर दौड़ा दिया था, जिससे संबंधित खबर भी हिंदुस्तान में प्रकाशित हुई थी।

कैसे की ठगी
वैष्णवी गैस एजेंसी का उदघाटन 1 अक्तूबर 2011 को मंत्री राजा पीटर द्वारा किया गया था। मनोज ने तब कंपनी को आईएसओ 9001: 2008 की मान्यता प्राप्त कंपनी बताया था। इसके बाद अनगड़ा में गैस प्लांट के लिए आवेदन मंगाए गए, तब 70 इंजीनियरों को बहाल किया गया। इस दौरान सिक्यूरिटी मनी के तौर पर सभी से 35- 40 हजार रुपये बैंक ऑफ इंडिया की खाता संख्या 496520110000437 पर जमा कराए गए। लेकिन बाद में मनोज सारे पैसे लेकर फरार हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वैष्णवी गैस एजेंसी संचालक के खिलाफ ठगी का मामला दर्ज