DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नोबेल शांति की दौड़ में

ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति मोन्सेफ मारजौकी, कथित विकीलीक्स मुखबिर ब्रैडले मैनिंगऔर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन 2012 के नोबेल शांति पुरस्कारों की दौड़ में हो सकते हैं। संभावित लोगों की सूची आधिकारिक रूप से इस साल के लिए सीलबंद की जा चुकी है, जो गोपनीय है और इस पर कोई नोबेल अधिकारी मुंह नहीं खोलेगा। जानकार इस पर अटकलें लगा रहे हैं कि कौन-कौन होगा संभावितों में। जिन लोगों के पास पुरस्कार के लिए नामांकित करने का अधिकार है, उनमें से कुछ ने अपनी राय भी दी है। नॉर्वे की पांच सदस्यों वाली नोबेल कमेटी ने बताया कि इस बार के पुरस्कार के लिए 231 नामों पर विचार चल रहा है।

नोबेल कमेटी के कार्यकारी सचिव गेयर लुंडेस्टाड के मुताबिक, 231 नामों में 43 संस्थाएं हैं। उन्होंने कहा, ‘बहुत सारे नाम कई सालों से लगातार इसका हिस्सा बनते आ रहे हैं, लेकिन कुछ नए नाम भी हैं।’ मानवाधिकार संस्था ह्यूमन राइट्स वॉच के यूरोपीय निदेशक और नोबेल पर नजर रखने वाले जॉन एगेलैंड का कहना है, ‘यह ट्यूनीशिया के लिए अच्छा हो सकता है। अब तक केवल अरब वसंत की सफलता की कहानी ही चमक रही है।’ मारजौकी एक मानवाधिकार कार्यकर्ता हैं और दिसंबर में ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति बने। तानाशाह सरकारों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के रूप में अरब वसंत ट्यूनीशिया से शुरू हुआ और फिर मिस्र, लीबिया, यमन होता हुआ सीरिया तक जा पहुंचा है। 
डायचे वेले वेब पोर्टल से

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नोबेल शांति की दौड़ में