DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेरेंटस ने स्कूल के बाहर किया हंगामा

शिशु भारती विद्यालय, लक्ष्मीनगर को बंद करने की नोटिस चिपकाने और मेन गेट पर ताला लगाकर बच्चों को बाहर करने की घटना के बाद अभिभावकों ने जमकर हंगामा किया। इसकी खबर मिलते ही अभिभावकों ने विकास मार्ग को जाम कर नारेबाजी शुरू कर दी। जिससे यातायात घंटों बाधित रहा।

शिशु भारती विद्यालय 40 साल से चल रहा है। लेकिन, अचानक गुरुवार की सुबह जब बच्चे परीक्षा देने पहुंचे तो पेपर को रद्दकर स्कूल में ताला लगा दिया गया। जिसके बाद करीब पांच सौ से अधिक अभिभावक और स्कूल ड्रेस पहने बच्चों ने सड़क जाम कर दिया और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। बाद में पुलिस की पहल के बाद अभिभावकों को शांत कराया गया। अभिभावकों का नेतृत्व कर रही मानव अधिकार कार्यकर्ता शबनम खान ने बताया कि स्कूल को अचानक बंद कर स्कूल प्रबंधन ने बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। बच्चों का पेपर चल रहा था। बीच में ही एक मार्च से स्कूल को बंद करने की नोटिस लगा दी गई है। इस स्कूल में करीब 300 बच्चे पढ़ाई कर रहे थे। स्कूल के इस रवैये के बाद अब इन बच्चों के भविष्य का क्या होगा। अब उन्हें बिना पेपर और रिजल्ट के कहा दाखिला मिलेगा। ये गंभीर समस्या है। उन्होंने इस घटना पर शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप करने की मांग की है। सड़क जाम कर रहे अभिभावक राकेश ने बताया कि मेरा बच्चा कक्षा चार में पढ़ता है। पेपर के बीच में ही स्कूल बंद कर देने से अब उसे कहा दाखिला दिलाया जाएगा, ये सबसे बड़ी समस्या है। वहीं इस मसले पर दिल्ली पब्लिक स्कूल मैनेंजमेट एसोसिएशन के चेयरमैन आरसी जैन ने कहा कि स्कूल प्रबंधन को इस तरह बच्चाों के भविष्य के साथ धोखा नहीं करना चाहिए। स्कूल प्रबंधन को चाहिए कि बच्चों को दूसरे स्कूल की दूसरी शाखा में शिफ्ट कराए। हालांकि उन्होंने कहा कि सरकार की गलत नीतियों की वजह से अभी और भी स्कूल बंद होने के कगार पर हैं। स्कूलों को बंद होने से बचाने के लिए सरकार को कोई ठोस पहल करनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पेरेंटस ने स्कूल के बाहर किया हंगामा