DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिलावटी खोये के खिलाफ अभियान, 2500 किलो खोया किया नष्ट

होली के नजदीक आते ही शहर में नकली खोया (मावा) और मिलावटी खाद्य पदर्थों के खिलाफ छापेमारी का जिला प्रशासन का अभियान शुरू हो गया है और इसी कड़ी में खोया मंडी में छापा मार कर करीब 2500 किलो मिलावटी खोया पकड़ा गया और जब उसका कोई मालिक सामने नहीं आया तो उसे नष्ट कर दिया गया, इसके अतिरिक्त पनीर के नमूने जांच के लिये भेजे गये हैं।

एडीएम सिटी शैलेन्द्र कुमार सिंह के अनुसार होली नजदीक आते ही मिलावटी खाद्य पदर्थों और खोया,दूध पनीर और मिठाई की दुकानों पर जांच पड़ताल का काम शुरू हो गया है जो होली बाद तक चलेगा।

जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि होली नजदीक होने के कारण शहर में नकली और मिलावटी खोये तथा खाद्य पदार्थों की भरमार है। इसी को देखते हुये जिला प्रशासन ने जांच पड़ताल का काम शुरू कर दिया है। अलग-अलग इलाकों में छापा मार कर नमूने एकत्र किये जा रहे हैं और उन्हें जांच के लिये प्रयोगशाला भेजा जा रहा है।

उन्होंने बताया कि सबसे पहले अधिकारियों की टीम कल शाम हटिया खोया मंडी पहुंची जहां टीम को देखते ही खोये के व्यापारी घबरा गये और वहां मौजूद छह खोया व्यापारी वहां से निकल कर भाग गए। जब इन लोगों की वहां मौजदू डलियों में रखा खोया जांचा गया तो वह पूरी तरह से मिलावटी था। तब प्रशासन की टीम ने उन व्यापारियों की डलियों में मौजदू करीब 25 क्विंटल खोया नष्ट कर दिया और उसे कूड़े के ढेर में फेंक दिया। अन्य खोया व्यापारियों के खोये के नमूने लेकर जांच के लिये प्रयोग शाला भेजे गये हैं।

जिला प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार मंडी में कुछ व्यापारी करीब 2000 किलो पनीर भी नष्ट कर रहे थे जब अधिकारियों ने इसके बारे में पूछा तो उन्नाव के पनीर व्यापारी ब्रहमा पांडे ने इसे अपना बताया तब अधिकारियों ने इस पनीर के नमूने लेकर प्रयोगशाला में जांच के लिये भेज दिये।

जिला प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार अभी किसी के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया गया लेकिन लखनऊ की प्रयोगशाला से किसी के खिलाफ रिपोर्ट आ जायेगी तो मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन का छापेमारी अभियान आगे भी जारी रहेगा। क्योंकि होली के अवसर पर शहर में आसपास के जिलो से भी भारी मात्रा में खोया बिकने को आता है और इसमे से अधिकतर खोया मिलावटी होता है। लेकिन सबसे परेशानी की बात यह है कि जब जिला प्रशासन या खाद्य विभाग की टीम खोया मंडियों पर छापा मारती है तो व्यापारी अपना खोया छोड़कर भाग जाते है तब उसे नष्ट करने के अलावा कोई उपाय नहीं बचता है।

एडीएम के मुताबिक जिला प्रशासन और खाद्य विभाग का जांच का अभियान होली तक चलेगा और यह अभियान खोया पनीर और दूध मंडी के अलावा मिठाई की दुकानों के खिलाफ भी चलाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मिलावटी खोये के खिलाफ अभियान