DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चेन्नई पुलिस पहुंची जांच के लिए फतुहा

का.सं./सं.सू.पटना/फतुहा। वेलाचेरी, चेन्नई में एनकाउंटर में मारे गए राजीव उर्फ राजू की तस्वीर पहचान कराने बुधवार को चेन्नई की पुलिस फतुहा पहुंची। पुलिस दरियापुर स्थित कबीर मठ में गई और वहां के महंत जयंत दास व ब्रजेश मुनि को राजू की तस्वीर दिखाई। यह फोटो उस वक्त का था जब पुलिस ने उसे मार गिराया था।

चेन्नई पुलिस के एसीपी तामिल चेल्लवन व इंस्पेक्टर गुणवर्मन ने इस दौरान महंतों के एक मतदाता पहचान पत्र भी दिखलाया जिसमें नाम हरीश राय, पिता पंछी राय, पुरुषोत्तमपुर, राघोपुर, वैशाली लिखा था पर उसमें फोटो राजू का था। महंत ने राजू के फोटो पर आशंका जतायी है।

उनका कहना है कि फोटो से राजू उर्फ राजीव नहीं दिखता है। उनके पास एक फोटो मिल्कीपर, हिलसा निवासी राजू का था जिसे उन्होंने आठ माह पहले भोपाल पुलिस को दे दिया था। आठ माह पहले भोपाल में हुए एक बैंक लूटकांड में वहां की पुलिस दरियापुर आई थी। भोपाल पुलिस से राजू की फोटो की महंत ने मांग की ताकि राजू का सही तौर पर पहचाना जा सके। वर्ष 2009 में कबीर मठ के महंत रामेश्वर दास की हत्या में राजू नामजद है।

फतुहा थाने में उसपर प्राथमिकी दर्ज है। राजू ही विनय को ले गया था चेन्नईमिल्कीपर, हिलसा, नालंदा निवासी राजीव राय उर्फ राजू ही बाहा पर, कराय परशुराय, नालंदा के रहने वाले विनय कुमार को चेन्नई ले गया था।

चेन्नई पुलिस की मुठभेड़ में विनय भी मारा गया। विनय व राजू दोनों संबंधी भी थे। विनय पहले पटना में एक निजी कंपनी में काम करता था। बाद में उसने काम छोड़ दिया और कराय परशुराय में ऑटो चलाकर बाल-बच्चों की परवरिश करने लगा। 22 फरवरी से पहले राजू विनय के पास पहुंचा और उसे लेकर चेन्नई चला गया। विनय के परिजनों को राजू ने कहा था कि उसे वहां डेरा चाहिए। इसलिए वह उसे लेकर चेन्नई जा रहा है।

विनय पहले चेन्नई में रह चुका था। घर वापसी के लिए विनय ने 23 फरवरी का वापसी टिकट भी लिया था पर इसी बीच 22 फरवरी की रात वेलाचेरी में हुई मुठभेड़ में विनय मारा गया। मुठभेड़ में मारा गया चौथा शख्स कौन? मुठभेड़ में मारे गए चार बिहारियों में से तीन को पुलिस ने पहचान लिया है

पर चौथा कौन मारा गया, इसका कोई सुराग नहीं मिला है। जिसका नाम व फोटो लेकर चेन्नई पुलिस यहां पहुंची है, उसमें से चौथे का कोई अता-पता नहीं है। न ही उसके नाम का पता चल रहा है और न ही उसके पते और फोटो का। चेन्न्ई पुलिस की इस मामले में सहयोग कर रही पटना पुलिस भी इस बात का मान रही है कि चौथे का अब तक कोई पहचान नहीं हुआ है। आखिर चौथा कौन है, इसको लेकर सस्पेंस बरकरार है।

हालांकि फतुहा के कई गांवों में भी पुलिस ने इस चौथे के बारे में पता लगाया पर कुछ भी पता नहीं चला। अब तक की जांच में जिन तीन की पहचान हो सकी है उसमें एक विनय कुमार (बाहापर, कराय परशुराय, नालंदा), दूसरा राजीव राय उर्फ राजू (मिल्कीपर, हिल्सा,नालंदा), तीसरा सुजय राय (कमरजी, गौरीचक, पटना) है। हालांकि चेन्नई पुलिस ने इस मुठभेड़ में मौजीपुर, फतुहा निवासी चन्द्रिका राय, रायपुरा, फतुहा निवासी विनोद साव को भी मार गिराने का दावा किया था। चन्द्रिका को उसके नाम व पते पर जिन्दा पाया गया पर विनोद कौन है? कहां रहता है? उसके बारे में कुछ भी पता नहीं चला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चेन्नई पुलिस पहुंची जांच के लिए फतुहा