DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार ने पा लिया एक लक्ष्य : नीतीश

वरीय संवाददाता, पटना।

पहले बिहार के लोग देश के दूसरे राज्यों में अपनी पहचान गुप्त रखना चाहते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब बिहारी कहना गौरव ही बात है। बिहार से बाहर लोग गर्व से स्वयं को बिहारी कहते हैं। बिहारी कहने में गर्व महसूस करने का लक्ष्य बिहार ने पा लिया है। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार शताब्दी सामारोह को लेकर बुधवार को राज्यभवन गोलंबर पर आयोजित एक कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि बिहार को अभी बहुत आगे जाना है। देश के अन्य राज्यों में रहने वाले के मन में बिहार के प्रति श्रद्धा है।

लोग अब बिहारियों का सम्मान करते हैं। राज्य पहले से ही ज्ञान का केंद्र रहा है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने मशाल जलाकर यात्राा को रवाना किया। यह मशाल राज्य के विभिन्न जिलों का भ्रमण कर लगभग पांच हजार किलोमीटर की यात्राा के बाद मार्च में राजधानी के गांधी मैदान में आयोजित होने वाले बिहार शताब्दी समारोह में पहुंचेगा। इसके पहले उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि शताब्दी वर्ष के मौके पर यह पहला कार्यक्रम है। पिछले एक सौ वर्ष के इतिहास के बारे में आम लोगों को जानकारी उपलब्ध कराए जाने की पहल होनी चाहिए। कार्यक्रम में जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्याम रजक समेत शहर के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार ने पा लिया एक लक्ष्य : नीतीश