DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूबे के 40 टेलीफोन एक्सचेंज बंद

पटना, हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। उपभोक्ता नहीं रहने के कारण बीएसएनएल ने पूरे राज्य में 40 टेलीफोन एक्सचेंज को बंद करने का फैसला लिया है। पटना दूरसंचार जिला में सात टेलीफोन एक्सचेंज को बंद किया गया है। ये सभी ऐसे एक्सचेंज थे जहां 10 से कम उपभोक्ता थे।

ऐसे एक्सचेंज से बीएसएनएल को कोई लाभ नहीं हो रहा था। ये सभी टेलीफोन एक्सचेंज ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। दरअसल, बीएसएनएल ने पहले ही फैसला लिया था कि जिस एक्सचेंज में 10 से कम उपभोक्ता होंगे उस एक्सचेंज को बंद कर दिया जाएगा। एक एक्सचेंज को चलाने में बीएसएनएल को प्रति माह 60 हजार रुपए से अधिक खर्च हो रहे थे जबकि आय प्रतिमाह 4-5 हजार रुपए थी। जिस एक्सचेंज में मोबाइल टावर लगे हैं उस एक्सचेंज को बंद नहीं किया जाएगा।

साथ ही जिन इलाकों में 150 से अधिक कस्टमर हैं वहां नए एक्सचेंज खोले जाएंगे। खासकर शहरी क्षेत्रों में नए एक्सचेंज भी खोलने की योजना है। इधर, पुराने कस्टमर को जोड़ने के लिए बीएसएनएल ने अब एक नया फंडा- बीएसएनएल टेलीफोन का रिकनेक्शन लीजिए व पुराने बिल में छूट पाइए, अपनाया है। इसके तहत छूट 10-50 फीसदी तक दी जाएगी। यह योजना 31 मार्च तक लागू है। पटना जिला टेलीफोन में बीएसएनएल के एक लाख टेलीफोन कस्टमर हैं। बकाए टेलीफोन बिल का भुगतान नहीं करने के कारण बीएसएनएल ने 4 हजार, 335 उपभोक्ताओं को नोटिस भेजा है।

शेष उपभोक्ताओं को एक सप्ताह के अंदर नोटिस भेजा जाएगा। उपभोक्ताओं को बकाया बिल जमा करने के लिए एक माह का वक्त दिया गया है। अगर उपभोक्ता एक माह के अंदर बकाया बिल का भुगतान नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पटना जिला में करीब 94.68 करोड़ रुपए टेलीफोन बिल बकाया है। इसमें केन्द्र सरकार के कार्यालयों के पास 1.26 करोड़़, राज्य सरकार के कार्यालयों के पास 60 लाख व प्राइवेट उपभोक्ताओं के पास 92.8 करोड़ रुपए बकाया है। कस्टमर नहीं रहने के कारण टेलीफोन एक्सचेंज को बंद करने का फैसला लिया गया है। जहां कस्टमर मिलेंगे वहां नए एक्सचेंज खोले जाएंगे। आर. पी. सिंह, पीजीएम, बीएसएनएल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सूबे के 40 टेलीफोन एक्सचेंज बंद