DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएचडी के लिए नहीं लगाने होंगे लखनऊ के चक्कर

नोएडा, कार्यालय संवाददाता।

 

नोएडा और ग्रेटर नोएडा के इंजीनियरिंग कॉलेज से एमटेक की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों को पीएचडी करने के लिए लखनऊ के चक्कर नहीं लगाने होंगे। इस साल उनके सामने नोएडा स्थित महामाया टेक्निकल यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने के दरवाजे खुल जाएंगे। विवि प्रशासन की ओर से मई में पीएचडी के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किए जाने की योजना बनाई जा रही है। सफल छात्रों को विवि से संबद्ध 24 एमटेक कॉलेजों में प्रवेश दिए जाने की संभावना है।

प्रोफेसर की संख्या व उनका अनुभव देखने के बाद पीएचडी करवाने के लिए कॉलेजों को हरी झंडी दी जाएगी। विवि प्रशासन की ओर से कॉलेजों में छात्रों को मिलने वाली सुविधाओं का जायजा लिया जा रहा है। पीएचडी के लिए स्वीकृति देने से पहले वहां की लैब, लाइब्रेरी व फैकेल्टी मेंबर के अलावा उसका इंफ्रास्ट्रक्चर भी देखा जा रहा है।

इस साल पीएचडी शुरू करवाने के लिए विवि प्रशासन की ओर से एक टीम का गठन किया जा चुका है। जबकि, टीम के सदस्यों की अगले माह होने वाली बैठक के बाद पीएचडी की सीटों व विषयों का निर्धारण किया जाएगा।मई में होगी प्रवेश परीक्षा पिछले साल तक लखनऊ स्थित विवि में पीएचडी करने के लिए चक्कर लगाने वाले छात्रों के लिए इस साल मई में एमटीयू प्रशासन की ओर से प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाएगा।

अप्रैल तक प्रवेश परीक्षा फॉर्म आने की संभावना है। पीएचडी में प्रवेश से संबंधित गाइडलाइन भी फॉर्म आने के साथ ही जारी की जाएगी। विवि के कुलपति प्रोफेसर एसके काक ने बताया कि पीएचडी के लिए सीटों की संख्या अभी निर्धारित नहीं की गई है।

इसके अलावा पीएचडी के लिए विवि से संबद्ध एमटेक कॉलेजों की सुविधाओं को देखा जा रहा है। छात्र व अनुभवी शिक्षकों के सही अनुपात के बाद भी एमटेक कॉलेजों में से उन्हें पीएचडी के लिए चुना जाएगा। ध्यान देने योग्य बातें-विवि से संबद्ध 24 एमटेक कॉलेजों से प्रतिवर्ष एमटेक के 1500 छात्र होते हैं सफल-इनमें से 50 फीसदी छात्रों को पीएचडी के लिए लखनऊ के अलावा दूसरे प्रदेशों का रुख करना होता है-उच्च शिक्षा का सपना पूरा करने के लिए कंपनियों में काम के साथ लगाते हैं दूर दराज के शहरों के चक्कर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीएचडी के लिए नहीं लगाने होंगे लखनऊ के चक्कर