विजेंदर की नजरें लंदन क्वालीफिकेशन पर, पदक गौण - विजेंदर की नजरें लंदन क्वालीफिकेशन पर, पदक गौण DA Image
14 दिसंबर, 2019|3:04|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विजेंदर की नजरें लंदन क्वालीफिकेशन पर, पदक गौण

ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने का अब उसके पास एकमात्र मौका है और मुक्केबाज विजेंदर सिंह का कहना है कि वह इसके अलावा किसी और चीज के बारे में नहीं सोच रहे हैं।

विजेंदर के अलावा अखिल कुमार, दिनेश कुमार और सुरंजय सिंह के लिए भी अप्रैल में कजाखस्तान के एस्टाना में होने वाली एशियाई चैम्पियनशिप क्वालीफिकेशन का आखिरी मौका है। एशिया को मिले 56 कोटा स्थानों में से एशियाई चैम्पियनशिपों में 25 स्थान दाव पर होंगे।

विजेंदर ने कहा कि फिलहाल मेरा फोकस उपमहाद्वीपीय क्वालीफायर पर है और मैं ओलंपिक कोटा हासिल करने का पूरा प्रयास करूंगा। बाकी भगवान पर छोड़ दिया है। विजेंदर 2011 विश्व चैम्पियनशिप के पहले ही दौर में क्यूबा के एमिलियो कोरिया से हार गए थे लेकिन दुनिया के पूर्व नंबर एक मुक्केबाज ने कहा कि वह अपनी गलतियों से सबक लेकर उतरेंगे।

विजेंदर के पास क्वालीफाई करने का सुनहरा मौका है क्योंकि मिडिलवेट वर्ग में पांच ओलंपिक कोटा स्थान दाव पर है।
 
वहीं, फिलहाल विश्व सीरिज मुक्केबाजी के अगले दौर के लिए पुणे में अभ्यास कर रहे अखिल के लिए यह आखिरी मौका है। उनके वर्ग में तीन कोटा स्थान दाव पर है। एस्टाना जाने वाली टीम का चयन अगले महीने होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विजेंदर की नजरें लंदन क्वालीफिकेशन पर, पदक गौण