DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

NRHM घोटाले में पूर्व अधिकारी गिरफ्तार

सीबीआई ने 10,000 करोड़ रुपए के राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) घोटाले के संबंध में कथित भूमिका के चलते उत्तर प्रदेश सरकार के स्वामित्व वाली एक कंपनी के पूर्व अधिकारी को गिरफ्तार किया है।

सूत्रों ने बताया कि मैसर्स श्रीटन इंडिया के पूर्व प्रबंध निदेशक जीके बत्रा को एजेंसी द्वारा गहन पूछताछ के बाद शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया। सीबीआई अब तक इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है, जिनमें उत्तर प्रदेश लघु उद्योग निगम के प्रबंध निदेशक अभय कुमार वाजपेयी, उत्तर प्रदेश जल बोर्ड के पूर्व महाप्रबंधक पीके जैन, परिवार कल्याण के पूर्व महानिदेशक एसपी राम और व्यापारी सौरभ जैन भी शामिल हैं।

एजेंसी ने शुक्रवार को इस मामले में दिल्ली कार्यालय में उत्तर प्रदेश परिवार कल्याण के पूर्व महानिदेशक आरआर भारती और लखनऊ कार्यालय में दो व्यापारियों वी गोयल और नीरज उपाध्याय से पूछताछ की थी।

सूत्रों के मुताबिक, करोड़ों रुपए के इस घोटाले में अब तक की पूछताछ में कई अहम सुराग सामने आए हैं। एक सूत्र ने बताया कि जांच के दौरान कई अनियमितताएं सामने आईं, जिनकी जांच चल रही है। 

इसके पहले सीबीआई ने चार जनवरी को इस घोटाले के संबंध में देश भर में लगभग 60 स्थानों पर तलाशी ली थी, जिनमें उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा का घर भी शामिल था।  कुशवाहा का इस घोटाले के संबंध में नाम आने के बाद मुख्यमंत्री मायावती ने उन्हें पार्टी से बर्खास्त कर दिया था। कुशवाहा अब भाजपा में शामिल हो गए हैं। सीबीआई ने इस घोटाले के सिलसिले में दो जनवरी को पांच मामले दर्ज किए थे। इनमें से एक कुशवाहा के खिलाफ भी था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NRHM घोटाले में पूर्व अधिकारी गिरफ्तार