DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युद्धपोत पर सवार होकर राष्ट्रपति ने रचा इतिहास

सुखोई विमान और युद्धक टैंक के बाद राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने मंगलवार को देश के भारी भरकम नौसैनिक बेड़े की समीक्षा के लिए पहली बार एक युद्धपोत की सवारी की।

प्रतिष्ठित समुद्री कमांडो से लैस नौसैनिक युद्धपोत आईएनएस सुभद्रा पर सवार 77 साल की राष्ट्रपति ने 10वें राष्ट्रपति नौसैनिक बेड़े की समीक्षा के तहत 81 जहाजों और 44 विमानों के बेड़े की समीक्षा की।

उन्होंने कहा कि जल्द ही शामिल होने वाले विक्रमादित्य जैसे विमानवाहक पोत, रडार की जद में नहीं आने वाले कोलकाता श्रेणी के विध्वंसक विमानों और तलवार श्रेणी की पनडुब्बियां, स्वदेश निर्मित एएसडब्ल्यू वाहकों के साथ ही शक्तिशाली पनडुब्बियों और युद्धपोतों वाली नौसेना का नयी उपलब्धियां हासिल करना तय है।

राष्ट्रपति ने युद्धपोत पर सवार नौसैनिक अधिकारियों और जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि आज, भारतीय नौसेना क्षेत्र की सबसे सक्षम सेनाओं में है और इसकी आधुनिकीकरण योजनाओं के बाद इसका और बढ़ना तय है। सुखोई युद्धक विमान और सेना के युद्धक टैंक के बाद युद्धपोत पर सवार होने वाली वह पहली महिला राष्ट्रपति हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:युद्धपोत पर सवार होकर राष्ट्रपति ने रचा इतिहास