DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टेबिल टेनिस नेशनल टीम में सार्थक सेठ का चयन

गाजियाबाद। हमारे संवाददाता। गाजियाबाद के 11 वर्षीय टेबिल टेनिस खिलाड़ी सार्थक ने केरल के कोच्चि में हुई सब जूनियर नेशनल एंड इंटर स्टेट चैंपिशनशिप में एक और उपलब्धि हासिल की। डीडीपीएस संजय नगर के छात्र सार्थक ने टेबिल टेनिस के नेशनल टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीता।

पदक जीतने के साथ ही सार्थक का सेलेक्शन अंडर-12 नेशनल टीम में टॉप फाइव में हो गया है। शानदार प्रदर्शन दोहराने वाले सार्थक की उत्तर प्रदेश अंडर-12 व 14 टेबिल टेनिस टीम में पहली रैंक है। सार्थक की ख्वाहिश पहले नेशनल, कॉमनवेल्थ व ओलम्पिक गेम्स में गोल्ड मेडल हासिल करने की है।

प्रतिभा का लोहा मनवाया केरल के कोच्चि में 8 से 13 दिसंबर को हुई इंडिया एश्योरेंस 73वीं कैडेट सब जूनियर नेशनल एण्ड इंटर स्टेट टेबिल टेनिस चैम्पियनशिप में सार्थक ने अंडर-12 में कांस्य पदक जीता।

इससे पहले सार्थक सेठ ने वाराणसी में 14 से 18 अक्टूबर को हुई सीबीएसई नेशनल चैम्पियनशिप में अंडर-12 में प्रतिभा का लोहा मनवाया था। सितम्बर में मुरादाबाद में हुए सीबीएसई कलस्टर्स टूर्नामेंट में अंडर-14 में सार्थक ने पहला स्थान हासिल किया। वहीं जुलाई में रोहतक में हुए नार्थ जोन फर्स्ट रैंकिंग में भी फर्स्ट रैंक प्राप्त की।

कोच विभोर खरे ने बताया कि सार्थक का सेलेक्शन अंडर-12 नेशनल टीम में टॉप फाइव में हो गया है।खेल के साथ पढ़ाई में भी सार्थक अव्वलडीडीपीएस स्कूल में आठवीं क्लास का छात्र सार्थक टेबिल टेनिस के साथ पढ़ाई में हमेशा अव्वल रहता है।

उसके पिता संजय सेठ को भी सार्थक की कड़ी मेहनत व परिश्रम पर पूरा भरोसा है। संजय सेठ बताते हैं कि स्कूल में सार्थक का वक्त टेबिल-टेनिस की प्रैक्टिस व घर में पढ़ाई में गुजरता है। डीडीपीएस स्कूल में शिक्षिका सार्थक की मां अनीता सेठ ने कहा कि टेबिल टेनिस में सार्थक के हुनर को देखते हुए उसका स्कूल ने उसका ट्रांसफर अशोक नगर से संजयनगर शाखा में कर दिया।

जिससे उसे बेहतर प्रशिक्षण मिल सके। स्कूल में मिला सम्मानसंजय नगर स्थित स्कूल में सोमवार को सार्थक को सम्मानित किया गया। प्रधानाचार्य प्रिया डल ने कहा कि सार्थक ने स्कूल का नाम रोशन किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टेबिल टेनिस नेशनल टीम में सार्थक सेठ का चयन