DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहनाई पर भारी पड़ेगा पासिंग आउट परेड का बैंड

बदायूं। कुलदीप। 24 दिसंबर को पुलिस लाइन में पासिंग आउट परेड की हरी झंडी मिलते ही रिकूट्रों की बांछे खिल गई हैं। पासिंग आउट परेड का 383 रिकूट्रों को बेसब्री से इंतजार था, लेकिन पासिंग आउट परेड का बैंड चार रिक्रूटों की शादी की शहनाई पर भारी पड़ता नजर आ रहा है। दो रिक्रूट को इसी दिन और दो को अगले दिन सात फेरे लेने हैं, लेकिन पासिंग आउट परेड के कारण उन्हें शादी की डेट आगे बढ़ानी पड़ रही है।

पुलिस लाइन की आरटीसी में 383 रिक्रूट पिछले नौ महीने से ट्रेनिंग ले रहे हैं। पासिंग आउट परेड यानि नौकरी में शुरूआत की 24 दिसंबर डेट भी आ चुकी है, लेकिन यह डेट चार रिक्रूटों के अरमानों पर पानी फेरती नजर आ रही है।

क्योंकि 24 और 25 दिसंबर को चार रिक्रूट की शादी होनी है। पासिंग आउट परेड की डेट तो आगे-पीछे हो नहीं सकती लिहाजा नौकरी की खातिर रिकूट्रों को अपनी शादी की डेट ही आगे बढ़ानी पड़ रही है। नौकरी के लिए सब चलता हैबागपत के विकास कुमार की 24 दिसंबर को शादी होनी थी। तैयारियां महीनों से चल रही थीं। हलवाई से लेकर टैंट वाले तक को बुकर किया जा चुका है। दुल्हन भी पिया के नाम की मेंहदी अपने हाथों पर रचा चुकी है।

वर और वधु पक्ष के रिश्तेदार घरों में आने शुरू हो गए हैं, लेकिन यह किसी को नहीं मालूम था कि उनकी सभी तैयारियां धरी रह जाएंगी। पासिंग आउट परेड की डेट क्या आई शादी की खुशियां काफूर हो गईं। विकास ने बताया कि पासिंग आउट परेड की डेट बदल नहीं सकती है और परेड में हिस्सा लेना भी जरूरी है। इसलिए शादी की डेट चेंज की जा रही है।

हालांकि इसमें आर्थिक हानि भी उठानी पड़ी है, लेकिन नौकरी के लिए सब चलता है।बागपत के ही रिकूट्र नितिन कुमार को भी 24 दिसंबर को ही सात फेरे लेने थे। उसकी शादी की डेट भी विकास की तरह आगे बढ़ाई जा रही है। नितिन ने बताया कि उसकी मंगेतर बहुत समझदार है। उसने पहले परेड में शामिल होने की राय दी। उसने बताया कि फरवरी में वह अब धूमधाम से शादी करेगा।

लखीमपुर खीरी के रिकूट्र मनोज कुमार भार्गव और बागपत के अजेंद्र सिंह ढाका की कहानी भी इन्हीं लोगों से मिलती जुलती है। दोनो रिक्रूट की शादी 25 दिसंबर को होनी है। इसलिए 24 दिसंबर को पूरे दिन व्यस्त रहने के बाद शादी की तमाम रस्मों को निभाना संभव नहीं है।

इस कारण इन्हें भी शादी की डेट आगे बढ़ानी पड़ रही है। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यह व्यक्तिगत मामला है इसलिए इस पर कमेंट नहीं किया जा सकता। फिर भी सीएल पर हमारा अधिकार नहीं है। ईएल भी हमें मौका देखकर मिलती है। नौकरी की वजह से शादी हो रही है न कि शादी की वजह से नौकरी मिल रही है। रिकूट्र 24 दिसंबर को निजी स्वार्थो को दरकिनार कर देश और समाज की सेवा करने की शपथ लेने वाले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शहनाई पर भारी पड़ेगा पासिंग आउट परेड का बैंड