DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हत्यारा 31 साल बाद पुलिस की गिरफ्त में

कालकाजी इलाके में हत्या कर फरार हुए आरोपी को दिल्ली पुलिस ने 31 साल बाद गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी अच्छे लाल के दो साथी वारदात के कुछ समय बाद ही गिरफ्तार हो गए थे, लेकिन वह फरार चल रहा था। अदालत ने उसे भगोड़ा घोषित कर रखा था। दिल्ली पुलिस ने उसके बारे में जानकारी देने वाले को दस हजार रुपये इनाम देने की घोषणा कर रखी थी।

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अजय चौधरी ने बताया कि ओखला औद्योगिक क्षेत्र में ओम प्रकाश मेट्रोल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड नाम से फैक्टरी चलाते थे। वर्ष 1980 में पारस प्रसाद, सूरज पाल सिंह और अच्छे लाल ने धारदार हथियार से वार कर उनकी हत्या कर दी थी। इस दौरान उन्होंने सुरक्षाकर्मियों शिव प्रसाद और बाबू राम के हाथ-पैर बांधकर उन्हें फैक्टरी के बाथरूम में बंद कर दिया था। आरोपियों ने फैक्टरी में लूटपाट भी की थी। इस संबंध में कालकाजी थाने में वर्ष 1980 में एफआईआर संख्या 1619 के तहत मामला दर्ज किया गया था।

उस समय पारस व सूरज को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। काफी छापेमारी के बावजूद पुलिस अच्छे लाल को गिरफ्तार नहीं कर सकती थी। गिरफ्तार दोनों आरोपियों को अदालत ने वर्ष 1985 में उम्रकैद की सजा सुनाई थी। कालकाजी थाने में तैनात हवलदार ओमबीर सिंह और सिपाही मनोज कुमार को गुप्त सूचना मिली कि अच्छे लाल यूपी के अकबरपुर जिला में छिपकर रहता है। उन्होंने वहां की लोकल पुलिस की मदद से छापेमारी कर आखिरकार उसे गिरफ्तार कर लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हत्यारा 31 साल बाद पुलिस की गिरफ्त में