DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोशल नेटवर्किग पर वायरस का हमला

फेसबुक यूजर्स इन दिनो एक अजीबोगरीब परेशानी से जुझ रहे हैं। शातिर हैकर्स किसी की भी आईडी का सहारा लेकर उसमें शामिल दोस्तों को अश्लील और हिंसा भरे वीडियों का लिंक वॉल पर छोड़ देते हैं। यूजर्स समझ नही पा रहे हैं कि वे क्या करें। हैकरों की इस शरारत से आपसी संबंधों पर भी बुरा असर पड़ रहा है क्योंकि यूजर्स को लगता है कि कोई जानबूझ कर ऐसी हरकत कर रहा है जबकि ये शरारत हैकर्स की होती है और शर्मिदगी यूजर्स को उठानी पड़ रही है।  

केस नंबर-1  गौरव के फेसबुक वॉल पर बीते दिनों उसी की फ्रेंड्स लिस्ट में शामिल एक दोस्त की आईडी से अश्लील लिंक आया। उसने फौरन उस लिंक को डिलिट कर। गौरव ने बाद में उस दोस्त को अपनी फ्रेंडस लिस्ट से हटा दिया। 
 
केस नंबर-2  फेसबुक यूज करने वाले एक पिता ने अपने बेटे की जमकर डांट फटकार लगा डाली और फौरन फेसबुक के यूज पर पाबंदी लगा डाली। पिता को बेटे के अकाउंट पर अश्लील लिंक दिखाई दिये जिसके बाद उनको गुस्सा आ गया। बेटे ने जब दोस्तो से ऐसे लिंक शेयर करने की जानकारी ली तो पता चला किसी ने भी ऐसे लिंक शेयर नही किये।
  
केस नंबर 3-  कालेज में पढ़ने वाली एक छात्र की आईडी से अश्लील लिंक दोस्त की आईडी पर लिंक कर दिये गये। जिस कारण उसे दोस्तों के बीच शर्मिदा होना पड़ा।   

केस नंबर 4--- जिले में तैनात एक पुलिस अफसर की आईडी से अश्लील लिंक शेयर कर दिये। बाद में जब उन्हे मालूम पड़ा तो उन्होने कानूनी कार्रवाई करने की बात कही।   फेसबुक यूजर्स इस समस्या से बुरी तरह से परेशान है। जिले के 5 हजार से अधिक यूजर्स इस लोकप्रिय सोशल नेटवर्किग साइड से जुडे हैं। सैकडों आईडी पर इस तरह के अश्लील लिंक शेयर हो चुके है। हर दिन इस तरह के लिंक लोगों की आईडी पर शेयर हो रहे हैं। जानकारी और जागरूकता के अभाव में लोगों को मजाक का पात्र बनना पड़ा रहा है वही शर्मिदगी भी ङोलनी पड़ रही है। इन लिंक के डर से फेसबुक अकाउंट को यूजर्स लॉगइन नही कर रहे हैं।  

खतरनाक वायरस हैं ये लिंक  
मैनपुरी। ये लिंक एक खतरनाक वायरस होते हैं। जैसे ही आप इन पर क्लिक करते है ये वायरस आपके लैपटॉप या कम्प्यूटर अटैक कर देते हैं। ये वायरस सीधे आपकी हार्डडिस्क पर अटैक करतें है। जिसके चलते आपके लैपटॉप और कम्प्यूटर हैग करने लगता है। साथ ही कम्प्यूटर की स्पीड पर भी फर्क पड़ता है प्रोसेसिंग धीमी पड़ जाती है। अंत में नौबत कम्प्यूटर को फोरमेट करनी की आ जाती है।   

ऐसे बचें इस वायरस से 
-       आपके वॉल पर अगर ऐसे लिंक आते है तो उन्हें क्लिक न करें। 
-       फेसबुक की ओर से जारी चेतावनी पर पालन करें। 
-       पर्सनल सेटिंग में जाकर बाहरी लिंक पर पाबंदी लगा दें। 
-       पासवर्ड चेंज कर दें। 
-       लिंक को ऑन न करें।  
-       अच्छा एंटीवायरस का इस्तेमाल करें। 
-       अंजान आईडी से आए मैसेज पर ध्यान न दें।   

एक्सपर्ट की राय  
कम्प्यूटर के जानकार रोहित सिंह बताते है कि ये लिंक एक तरह के वायरस है जो यूरोप आदि देशों से होता हुआ भारत में आया है। इस तरह के लिंक पर क्लिक न करें। डिलिट करने की कोशिश करें। आईडी का इस्तेमाल सावधानी पूर्वक करें। पासवर्ड को समय पर चेंज करते रहें। फेक और फर्जी आईडी पर लॉगइन न करें। क्योकि इस वायरस का सीधा अटैक कम्प्यूटर की हार्ड डिस्क पर होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सोशल नेटवर्किग पर वायरस का हमला