DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर-2-गोरखपुर को मिली 23 सौ टन यूरिया, राहत

- आज से होगी ‘डिलीवरी’, दो दिन में और आएगी यूरिया- समितियों पर जाएगी 1512 टन यूरिया- मण्डल के सभी जिलों के लिए मिली है यूरियागोरखपुर। कार्यालय संवाददातायूरिया की किल्लत से जूझ रहे गोरखपुर के किसानों के लिए राहतभरी खबर है। शासन ने 2360 मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध करा दिया है। खादों का वितरण सोमवार से होगा। इसमें से जिले की 1512 मीट्रिक टन यूरिया सहकारी समितियों पर जाएगी, शेष कृषि विभाग से सूचीबद्ध निजी दुकानों पर जाएगी।शासन ने गोरखपुर मण्डल के अन्य जिलों के लिए भी यूरिया दी है। साथ ही फास्फेटिक खाद भी दी है। हालांकि इसकी इन दिनों जरूरत नहीं है। थोक व फुटकर विक्रेता इसे लेने को तैयार नहीं हैं लेकिन कम्पनी के फास्फेटिक खाद भेजे जाने से थोक विक्रेता परेशान हो गए हैं। वे भी इससे पीछा छुड़ाने के लिए फुटकर विक्रेताओं को फास्फेटिक लेने की शर्त पर ही यूरिया दे रहे हैं। बताया जा रहा है कि विभागीय अधिकारियों ने इस स्थिति से शासन को अवगत कराया है और भविष्य में फास्फेटिक खाद न भेजने की सिफारिश की है। सूत्रों का कहना है कि बेमौसम भेजे गए फास्फेटिक खाद विक्रेताओं के बीच एक विवाद का विषय बन गया है। फुटकर विक्रेता फास्फेटिक खाद नहीं लेना चाहते हैं और थोक विक्रेता उसे लेने के बाद ही यूरिया देने पर अड़े हैं। इससे यूरिया की उठान में दिक्कत हो रही है।इफ्को व नर्मदा फर्टिलाईजर्स ने दी है यूरिया व फास्फेटिकसंस्था जनपद यूरिया- फास्फेटिक (मीट्रिक टन)इफ्को- गोरखपुर 1512- 90 (20:20:00)नर्मदा फर्टिलाईजर्स गोरखपुर 400- 90 महराजगंज 768- 60 देवरिया 400- 15 कुशीनगर 350- 90आईपीएल गोरखपुर 450 सिर्फ यूरिया महराजगंज 1250 देवरिया 300 कुशीनगर 300 सिद्धार्थ नगर 300कल 19 सौ मीट्रिक टन यूरिया मिलेगाउप निदेशक-कृषि जय प्रकाश ने बताया कि मंगलवार की सुबह तक गोरखपुर जिले को और 19 सौ मीट्रिक टन यूरिया मिलेगी। यह खाद नेशनल फर्टिलाईजर्स लिमिटेड (एनएफएल) से मिल रही है। रविवार को कम्पनी की रेल रैक कानपुर स्टेशन पर खड़ी थी। देर रात वहां से रवाना होगी। सोमवार की देर रात यहां पहुंच जाएगी। मंगलवार की सुबह से उसका भी वितरण शुरू हो जाएगा।फास्फेटिक न देने की हिदायतफास्फेटिक खाद लेने की शर्त पर यूरिया देने की शिकायत मिलने पर उप निदेशक-कृषि जय प्रकाश ने थोक विक्रेताओं को हिदायत दी है कि फास्फेटिक लेने के लिए फुटकर विक्रेताओं को मजबूर न किया जाए। उन्होंने यह भी कहा है कि इस तरह की शिकायत मिलने पर विक्रेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उप निदेशक ने यह भी कहा है कि यूरिया का वितरण जल्द कराएं ताकि किसानों को परेशानी न हो। अधिक कीमत लेने पर भी कार्रवाई होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गोरखपुर-2-गोरखपुर को मिली 23 सौ टन यूरिया, राहत