DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आगे तो आइए

डीटीसी का हाल भी ब्लू लाइन वाला होता जा रहा है जबकि इन्हें सड़कों से इसलिए हटाया गया था कि तमाम चेतावनियों के बावजूद ये नियम-कानून को धता-बता रही थीं। लोग न बसों में सुरक्षित थे, न सड़कों पर। दुर्घटनाएं अब भी उसी अंदाज में हो रहीं। रविवार को हुई दुर्घटना में यही बात सामने आ रही है कि यात्रियों से भरी बस का इस्तेमाल ड्राइवर अपने रिश्तेदार को ड्राइविंग सिखाने के लिए कर रहा था। जिनकी जान गई, उनके साथ अफसोस जताने भर से नहीं होगा। बस में सवार वे लोग कहां हैं जिन्हें गवाही देने के लिए तुरंत ही खुद आगे आना चाहिए था, पर अपने-अपने रास्ते चले गए! यह अपराध होते देखकर भी चुप रहने-जैसा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आगे तो आइए