DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले टेस्ट के लिए एक दर्जन गेंद ही देगा कूकाबुरा

कूकाबुरा गेंदों की क्वालिटी पर उठाए जा रहे सवालों से चिंतित इस कंपनी के राब एलियट ने भारत और आस्ट्रेलिया के बीच 26 दिसंबर से मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर शुरू होने वाले पहले टेस्ट के लिए केवल एक दर्जन गेंद उपलब्ध कराने का फैसला किया है।

यदि मैच पांच दिन चलता है और उसमें चार पारियां खेली जाती हैं तो फिर सीधे तौर पर चार नयी गेंद की जरूरत पड़ेगी। यदि कोई पारी 80 ओवर से अधिक खिंचती है तो दूसरी नई गेंद लेनी पड़ेगी। यदि सवालों से घिरी इस गेंद से कोई शिकायत होती है तो फिर अंपायरों को दूसरी गेंद लेनी पड़ सकती है। ऐसे में कहीं ऐसी स्थिति न पैदा हो जाए कि गेंद नहीं होने के कारण मैच रोक देना पड़ा।

अभी एलियट ने पहले मैच के लिए 12 गेंद को चुना है। न तो क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने कोई ऐसा अभियान चलाया है और ना ही एलियट ने यह पुष्टि करने की कोशिश की है कि उन्होंने ऐसी गेंद चुनी हैं जो सीम या स्विंग नहीं लें जिसे आस्ट्रेलिया के वर्तमान बल्लेबाजों की असफलता का कारण माना जा रहा है।

एलियट इसलिए परेशान हैं क्योंकि इस सत्र में आस्ट्रेलियाई दौरा करने वाली टीमों ने उनकी कूकाबुरा गेंदों पर सवाल उठाए थे। आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच हाल में समाप्त हुई सीरीज में न्यूजीलैंड ने होबार्ट में दूसरे टेस्ट में आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में पहले 11 ओवर के बाद ही तीसरी गेंद की मांग कर दी थी। ब्रिस्बेन में भी तीन बार गेंद बदली गई थी।

एलियट कोई ऐसा कारण नहीं बता पा रहे हैं कि आखिर हाल में क्रिकेटरों को उनकी गेंद क्यों अच्छी नहीं लगी। उनका मानना है कि इसके कुछ अन्य कारण भी सकते हैं। उन्होंने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मुझे पता नहीं कि समस्या क्या है। यह हैरान करने वाला है। मैं समस्या का पता लगाना चाहता हूं लेकिन मुझे संदेह है कि इसके अन्य कारण भी हो सकते हैं। मेरे कहने का मतलब यह नहीं है कि वे (टीमें) गेंद से छेड़छाड़ कर रहे हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहले टेस्ट के लिए एक दर्जन गेंद ही देगा कूकाबुरा