DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नहीं शुरू हुई आटो में मीटर लगाने की कवायद

 साइबर सिटी के आटो का किराया निर्धारित करने की प्रशासन की मुहिम फिलहाल तो परवान चढ़ते नहीं दिख रही है। किराया निर्धारित करने और एक सप्ताह के भीतर आटो में मीटर लगवाने की प्रशासन की चेतावनी के बाद भी आटो चालक मीटर लगवाने में रुचि नहीं ले रहे हैं। वहीं, निर्धारित किराए को लेकर आटो चालकों द्वारा रोष जताने का भी क्रम जारी है।

साइबर सिटी में लगभग तीन हजार सीएनजी आटो चलते हैं। लेकिन न तो इनका किराया निर्धारित है और न ही इनमें मीटर लगे हुए हैं। इसके चलते आटो चालकों द्वारा मनमाना किराया वसूले जाने की शिकायतें आमतौर पर मिलती ही रहती हैं। इस पर लगाम लगाने के लिए पिछले दिनों मंडलायुक्त टीके शर्मा की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया गया था। जिसने आटो चालकों के लिए किराए की दरें सुझाई थीं। इन्हें मानते हुए दो सप्ताह पहले जिला उपायुक्त ने आटो चालकों के लिए किराए दी दरें निर्धारित कर दी थीं। आटो चालकों को हायर करने के साथ ही पहले दो किलोमीटर के लिए बीस रुपये लेने व उसके बाद प्रति किलोमीटर साढ़े छह रुपये वसूलने को कहा गया। जबकि, सभी आटो चालकों को मीटर लगवाने के लिए सप्ताह भर का समय दिया गया। प्रशासन द्वारा कुछ आटो चालकों को मिनी सचिवालय में बुलाकर किराया सूची की जानकारी भी दी गई।

हालांकि, आटो चालकों द्वारा निर्धारित किराए पर रोष जताया जा रहा है। इसके खिलाफ आंदोलन की रणनीति भी तैयार की गई। आटो यूनियन के प्रतिनिधियों ने निर्धारित किराए पर असंतोष जताने के लिए अधिकारियों से भी मुलाकात की लेकिन अधिकारियों की ओर से किराया सूची को और बढ़ाने से साफ इनकार कर दिया गया। इसके बावजूद आटो चालकों की ओर से मीटर लगाने की शुरूआत न हीं की जा रही है। जिससे प्रशासन के निर्देशों के बावजूद लोगों को आटो की मनमाना किराया ही देना पड़ रहा है। वहीं, एमजी रोड आटो यूनियन के प्रधान रामेश्वर का कहना है कि फिलहाल प्रशासन की ओर से मीटर लगवाने के निर्देश अभी नहीं मिले हैं। निर्देश मिलने के बाद उस पर कार्रवाई की जाएगी। जबकि, जिला उपायुक्त पीसी मीणा सभी आटो में मीटर लगाए जाने की बात कहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नहीं शुरू हुई आटो में मीटर लगाने की कवायद