DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अभ्यास मैच में मौका गंवाने से दुखी रहाणे

भारत के युवा सलामी बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे निराश हैं कि अभ्यास मैच के दौरान मिले मौके का वह सही इस्तेमाल नहीं कर सके। उनका मानना है कि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अब उन्हें बेंच पर बैठकर ही समय बिताना होगा।
     
उन्होंने कहा कि मैं सचमुच दुखी हूं। मुझे अपनी बल्लेबाजी पर मेहनत करनी होगी। मुझे लगता है कि इस दौरे पर अब और मौका नहीं मिलेगा। रहाणे क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया अध्यक्ष एकादश के खिलाफ नौ गेंद में तीन रन ही बना सके। इंग्लैंड के खिलाफ प्रभावी प्रदर्शन करने वाले रहाणे को टीम में तीसरे सलामी बल्लेबाज के रूप में रखा गया लेकिन पहले मैच में नाकाम रहने से उनके खेलने की संभावना कम हो गई है।
      
नियमित सलामी बल्लेबाजों के चोटिल होने पर ही उन्हें मौका मिलेगा या टीम प्रबंधन राहुल द्रविड़ से भी पारी की शुरूआत करा सकता है। रहाणे के पक्ष में इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट के दौरान ऑस्ट्रेलिया में खेलने का अनुभव जाता है।

रहाणे ने पिछली बार यहां दो शतक जमाये थे जिसकी बदौलत इंग्लैंड दौरे के लिए उन्हें भारतीय टीम में जगह मिली। उनके आदर्श सचिन तेंदुलकर ने इस दौर पर उन्हें कई टिप्स दिए। रहाणे ने कहा कि सचिन ने कई सलाह दी है। उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई पिचों पर उछाल पर नजर रखने के लिए कहा।
   
कोच डंकन फ्लेचर भी रहाणे को पूरा समय दे रहे हैं। सुबह वैकल्पिक अभ्यास सत्र में वह उनकी बल्लेबाजी पर पैनी नजर बनाए हुए थे। रहाणे ने कहा कि डंकन मेरी बल्लेबाजी के तकनीकी पहलुओं पर काम कर रहे हैं। उन्होंने मुझे स्वाभाविक खेल दिखाने को कहा और यह भी कहा कि नये हालात से चिंतित होने की जरूरत नहीं है।
     
यह पूछने पर कि टेस्ट मैच में भी क्या वह वीरेंद्र सहवाग की तरह आक्रामक बल्लेबाजी करेंगे, रहाणे ने कहा कि मैं जैसे खेलता हूं, वैसे ही खेलूंगा। मैं तुलना पसंद नहीं करता। हर किसी की अपनी शैली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अभ्यास मैच में मौका गंवाने से दुखी रहाणे