DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

2012 के चटख मटक दावेदार

नए साल में कदम रखने जा रहा बॉलीवुड ये संभावनाएं भी जगा रहा है कि आखिर अगला साल किस एक्टर या एक्ट्रेस का होगा। कौन सा निर्देशक फिर से अपनी छाप छोड़ने में कायमयाब होगा और किस साइड हीरो की किस्मत खुलेगी। फिल्म दिग्गजों का मानना है कि अगला साल तमाम युवा सितारों का होगा। अगले साल के सितारों के अप-डाउन का हाल बयां कर रहे हैं शांति स्वरूप त्रिपाठी।

तनी अजीब बात है कि पूरे विश्व में सर्वाधिक फिल्मों का निर्माण करने वाले बॉलीवुड के पास खान बंधुओं के अतिरिक्त (अजय देवगन तथा अक्षय कुमार को नजरंदाज कर दें तो) नवोदित कलाकारों की पीढ़ी में प्रतिभाशाली कलाकारों का अकाल सा नजर आता है। वर्ष 2011 में विभिन्न तरह की फिल्मों के माध्यम से कम से कम दो दर्जन कलाकारों ने बॉलीवुड में कदम रखा पर इनमें से एक भी जियाला ऐसा नहीं लग रहा, जिस पर भरोसा किया जा सके कि वह बॉलीवुड को आगे ले जा सकेगा।

काफी गहन अध्ययन के बाद अभिनेताओं में रणबीर कपूर, इमरान खान और रणवीर सिंह तथा अभिनेत्रियों में कैटरीना कैफ, करीना कपूर, सोनाक्षी सिन्हा और अनुष्का शर्मा ही ऐसे नाम हैं, जो कि न सिर्फ 2012 में कमाल दिखा सकते हैं, बल्कि बॉलीवुड में आगे ले जाने या बॉलीवुड की दिशा तय करने में भी अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं।

2011 में उम्र दराज कलाकारों में सलमान खान को छोड़ दें, तो अक्षय कुमार, शाहरुख खान, शाहिद कपूर जैसे दिग्गज कलाकार बुरी तरह से धराशायी हो चुके हैं तो वहीं अभिनेत्रियों में सोनम कपूर, बिपाशा बसु, प्रीति जिंटा, कंगना राणावत, उदिता गोस्वामी भी धराशायी हो चुकी हैं। नए कलाकारों के संदर्भ में यह साल बहुत ही ज्यादा उतार चढ़ाव का रहा। अभिनेता इमरान खान की ‘डेल्ही बेली’और ‘मेरे ब्रदर की दुल्हन’ को सफलता मिली।

अब बॉलीवुड बिचौलियों का मानना है कि 2012 में वेलेंटाइन डे पर रिलीज होने वाली फिल्म ‘एक मैं और एक तू’ में खान बंधुओं के लिए लकी चार्म मानी जाने वाली करीना कपूर, इमरान खान के लिए भी लकी चार्म साबित हो सकती हैं। वैसे फिल्म समीक्षक राजेश कुमार सिंह कहते हैं- ‘इमरान खान में अभिनय क्षमता की कमी नहीं है, लेकिन उनकी फिल्में बॉक्स आफिस पर सफलता दर्ज नहीं करा रही हैं। हो सकता है कि अब एक बार फिर उनके करियर को संवारने के लिए उनके मामू जान आमिर खान किसी फिल्म का निर्माण कर डालें।’

‘बैंड बाजा बारात’ से अचानक स्टार कलाकार के रूप में उभरकर सामने आये रणवीर सिंह इस साल सबसे अधिक चर्चा का विषय बने। मजे की बात है कि ‘लेडीज वर्सेस रिक्की बहल’ की असफलता के बावजूद उनकी मॉर्केट पर कोईअसर नहीं पड़ा। वैसे यह उनके व्यक्तित्व का ही कमाल है कि सोनाक्षी सिन्हा के साथ उनकी फिल्म ‘लुटेरा’ का मुहूर्त हो चुका है, जिसके निर्देशक विक्रमादित्य मोटवाणी  हैं।

लोग अब रणवीर सिंह को ‘वन फिल्म वंडर’  की संज्ञा दे रहे हैं, लेकिन ट्रेड विश्लेषक तरन आदर्श इससे सहमत नजर नहीं हैं। वह कहते हैं-‘मैं रणवीर  सिंह को ‘वन फिल्म वंडर’ नहीं मानता। उसने साबित कर दिया था कि उनके अंदर अभिनय की असीम संभावनाएं हैं। वह मोनोटोनस कलाकार नहीं है। 2012 में रणवीर सिंह और सोनाक्षी सिन्हा की जोड़ी नई पीढ़ी के कलाकारों के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी।’

इस साल रणबीर कपूर को रॉकस्टार के जरिए खूब नोटिस किया गया। रणबीर ने खान बधुओं के साथ-साथ अक्षय कुमार, अजय देवगन के लिए भी खतरे की घंटी बजा रखी है। 2012 में उनकी दो फिल्में ‘बर्फी’ तथा ‘यह जवानी है दीवानी’ रिलीज होगी। ‘बर्फी’ में वह एक मूक का किरदार निभाने जा रहे हैं। दिग्गजों का मानना है कि 2012 में रणबीर कपूर और रणवीर सिंह के बीच ही असली मुकाबला होगा।

तो उधर प्रतीक बब्बर भी हैं, जो इस साल ‘धोबी घाट’, ‘दम मारो दम’, ‘आरक्षण’ और ‘माई फ्रेंड पिंटो’ जैसी फिल्मों में नजर आए। हालांकि मेन हीरो  बनने के लिए उन्हें अभी बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। यानी असली हीरो या स्टारडम की लड़ाई अब भी रणबीर कपूर और रणवीर सिंह के बीच ही है। पर इन दोनों के बीच यदि इमरान खान बाजी मार ले जाएं, तो आश्चर्य नहीं होगा।

इसमें कोई दो राय नहीं कि अनुष्का शर्मा की पहचान अब बन रही है। इसी वजह से यश चोपड़ा ने अपने निर्देशन में बनने वाली अनाम फिल्म में उन्हें शाहरुख खान व कैटरीना कैफ के साथ लिया है। अगले साल सबकी निगाहें सोनाक्षी पर भी होंगी।

उनके पास ‘राउडी राठौड़’, ‘सन ऑफ सरदार’, ‘जोकर’, ‘दबंग-2’, ‘लुटेरा’ और ‘किक’ जैसी फिल्में हैं। पर हो सकता है कि कैटरीना कैफ सलमान खान के साथ ‘एक था टाइगर’ से सबकी बोलती बंद कर दें। इन सबके बावजूद करीना कपूर लगातार अपनी बढ़त बनाए हुए हैं। 2012 में करीना की ‘एजेंट विनोद’, ‘तलाश’और ‘हीरोइन’ आने वाली है।

यानी मुकाबला कड़ा होगा। पर चिंता तो होनी चाहिए प्रियंका चोपड़ा को जिन्होंने फिल्म ‘सात खून माफ’ से बहुत निराश किया। बर्फी में देखते हैं कि वो क्या करती हैं। वैसे लाइन में तो कल्कि, चित्रंगदा और जैकलीन भी हैं, लेकिन इन पर भारी पड़ सकती है विद्या बालन, जो डर्टी पिक्चर की सफलता को अगले साल तक भुनाएंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:2012 के चटख मटक दावेदार