DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकपाल में होगा कोटा

संसद सत्र समाप्त होने से पहले सरकार लोकपाल विधेयक पारित कराने को लेकर दबाव से जूझ रही है। ऐसे में सरकार विपक्ष और सिविल सोसायटी की ओर से आई ज्यादातर मांगों को संशोधित विधेयक में शामिल कर सकती है। विधेयक में संशोधनों को अंतिम रूप देने के लिए लगातार बैठकें कर रहे वरिष्ठ मंत्री सीबीआई, ग्रुप सी तथा लोकपाल की जवाबदेही जैसे मसलों को छोड़ बाकी मांगों पर लगभग सहमत हैं। इनमें लोकपाल में आरक्षण की शर्त प्रमुख है।

लोकपाल विधेयक को मंजूरी देने के लिए सोमवार सुबह कैबिनेट की बैठक होनी है। हालांकि, बैठक के एजेंडे में केवल खाद्य सुरक्षा विधेयक को ही रखा गया है। पहले कैबिनेट रविवार शाम तय की गई थी। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शनिवार रात को रूस दौरे से लौट रहे हैं। तब तक वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी, गृह मंत्री पी. चिदंबरम, मानव संसाधन मंत्री कपिल सिब्बल, कानून मंत्री सलमान खुर्शीद, संसदीय कार्यमंत्री पवन बंसल संशोधनों को स्वीकार्य बनाने की जुगत में लगे हैं।
कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने माना कि कि सरकार के पास विधेयक को इसी सत्र में पेश करने के अलावा कोई चारा नहीं है। भले ही सत्र की अवधि बढ़ानी पड़े।
सूत्रों के अनुसार, मायावती, रामविलास पासवान, मुलायम सिंह और लालू प्रसाद की ओर से लोकपाल में आरक्षण देने संबंधी मांग से सरकार सहमत है।

सरकार लोकपाल के सदस्यों में 50 फीसदी एससी, एसटी और पिछड़े वर्ग से मनोनीत करने के साथ ही सदस्यों का चुनाव करने वाली समिति में भी इतने ही फीसदी आरक्षण का प्रस्ताव कर सकती है। इसी तरह प्रधानमंत्री को कुछ शर्तों के साथ लोकपाल के दायरे में रखने पर भी सरकार सहमत हो सकती है। सरकार के मंत्री जिन मसलों का हल अभी तक नहीं निकाल पाए हैं उनमें लोकपाल की जवाबदेही और सीबीआई का मसला प्रमुख है। लोकपाल की जवाबदेही किसके प्रति होगी और सीबीआई किस तरह लोकपाल के अधीन हो इसका जवाब मंत्रियों की समिति तलाश कर रही है।

सरकार में सूत्र मान रहे हैं कि ग्रुप सी कर्मचारियों को लोकपाल के अंतर्गत लाने के सुझाव पर ज्यादातर राजनीतिक दल असहमत हैं। सूत्रों को उम्मीद है कि टीम अन्ना भी विवादित मसलों पर ज्यादा जोर नहीं देगी। संशोधन तैयार कर रहे मंत्रियों में एक ने बताया कि सरकार अधिक से अधिक सहमति जुटाने की कोशिश कर रही है।

अन्ना की 19 को आंध्र में सभा: मजबूत एवं प्रभावी लोकपाल विधायक की मांग को लेकर चलाए जा रहे अभियान के तहत समाजसेवी अन्ना हजारे आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद में 19 दिसंबर को एक आम सभा को संबोधित करेंगे।
गांधी किंग फाउंडेशन के प्रबंध न्यासी प्रसाद गोल्लनपल्ली ने शुक्रवार को बताया कि हजारे टीम के सदस्य अरविंद केजरीवाल के साथ बापू घाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को पुष्पांजलि अर्पित करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लोकपाल में होगा कोटा