DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भ्रष्ट व्यवस्था के चलते मिलावटी सामानों की बिक्री बढ़ी

वाराणसी कार्यालय संवाददाता। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल (मिश्र गुट) के महामंत्री अरुण अग्रवाल ने कहा कि व्यापारी मिलावटी सामान बेचना नहीं चाहता। लेकिन भ्रष्ट व्यवस्था उसे ऐसा करने पर मजबूर करती है। इसके लिए शासन-प्रशासन की नीतियां जिम्मेदार हैं। नदेसर स्थित एक होटल में शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि भारी पुलिस बल के साथ सैम्पल लेने की आड़ में अफसर व्यापारियों का भयादोहन करते हैं। सैम्पल रिपार्ट आने से पहले ही व्यापारियों को इतना प्रताडिम्त कर दिया जाता है कि वह टूट जाता है। इसे रोकने के लिए सैम्पल अधिनियम में संशोधन की आवश्यकता है।

ताकि बाजारों में मिलावटी सामानों की बिक्री पर रोक और भ्रष्टाचार पर लगाम लगे। उन्होंने कहा कि यूपी समेत पांच प्रदेशों के विधानसभा चुनावों के बाद खुदरा बाजार में प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश को लागू करने की बात कहने वाले प्रधानमंत्री की जितनी भी निंदा की जाए, कम है। उन्होंने अध्यापकों, कलाकारों एवं स्नातक क्षेत्र की तरह व्यापारी क्षेत्र बनाकर व्यापारियों को विधानपरिषद व राज्यसभा में भेजने की मांग की। कहा कि शहर उत्तरी विधानसभा से भाजपा यदि राकेश त्रिवेदी को टिकट देती है तो संगठन इसका समर्थन करेगा। आगामी 26 व 27 दिसम्बर को सिगरा स्थित नगर निगम प्रेक्षागृह में आयोजित प्रदेशस्तरीय अधिवेशन में एफडीआई के खिलाफ संघर्ष की रूपरेखा तय की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भ्रष्ट व्यवस्था के चलते मिलावटी सामानों की बिक्री बढ़ी