DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रुपये की गिरावट पर कदम उठा सकता है आरबीआई

प्रमुख विदेशी मुद्राओं की तुलना में रुपये में तीव्र गिरावट पर चिंता व्यक्त करते हुये रिजर्व बैंक ने कहा है कि वह स्थिति पर नजदीक से नजर रखे हुये है और परिस्थिति के अनुसार उचित समय पर कदम उठाता रहेगा।

बैंक ने अक्टूबऱ-नवंबर में औसत निर्यात वृद्धि घटकर 13.6 प्रतिशत रह जाने को गंभीरता से लिया है। इससे पहले अप्रैल से सितंबर 2011 अवधि में औसत निर्यात वृद्धि 40.6 प्रतिशत तक रही। बहरहाल, बैंक ने कहा है कि निर्यात के मुकाबले आयात में गिरावट धीमी रही है जिससे व्यापार घाटा बढ़ा है।

केन्द्रीय बैंक ने कहा है व्यापार घाटा बढ़ने से चालू खाते के घाटे पर दबाव बढ़ा। इसके साथ साथ विदेशी संस्थागत निवेशकों ने भी अपने निवेश पोर्टफोलियों को नये सिरे से संतुलित करने की कार्रवाई शुरू कर दी। निर्यातकों ने निर्यात से होने वाली आय को विदेशों में ही रखा, देश में लाने में जल्दबाजी नहीं दिखाई, इन सभी बातों से रुपये पर दबाव बढ़ा।

रिजर्व बैंक ने कहा कि पांच अगस्त जब अमेरिकी सरकार की ऋण साख कम की गई थी, उसे दिन से 15 दिसंबर 2011 तक डालर के मुकाबले रुपया 17 प्रतिशत कमजोर हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रुपये की गिरावट रोकने कदम उठा सकता है आरबीआई