DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनता का धन हड़प लेती है मायावती सरकार: राहुल गांधी

अपने मिशन-2012 को कामयाब बनाने में जुटे कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने आज खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का खुला समर्थन करते हुए इसकी सख्त मुखालिफत करने वाले विपक्ष को किसान विरोधी करार दिया।
 
उत्तर प्रदेश के अपने पांच दिवसीय दौरे के चौथे दिन यहां आयोजित जनसभा में राहुल के तेवर सत्तारूढ़ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रति काफी तल्ख रहे और उन्होंने इन दोनों ही दलों को जनविरोधी बताया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश का भविष्य बदलना है तो राज्य में कांग्रेस की सरकार बनानी होगी, क्योंकि वह वर्तमान नहीं बल्कि भविष्य के बारे में सोचती है।
 
आलू उत्पादक पट्टी क्षेत्र में आयोजित जनसभा में किसानों के प्रति हमदर्दी जताते हुए उन्होंने कहा हिन्दुस्तान में 60 प्रतिशत सब्जी खराब हो जाती है। हमने रिटेल में एफडीआई लाने की बात कही ताकि आलू की बर्बादी नहीं हो और किसान अपनी फसल को सही दामों पर बेच सके लेकिन विपक्षी दलों ने उसे रोक दिया़, संसद की कार्यवाही नहीं चलने दी। उन्होंने ऐसा इसलिये किया क्योंकि वे किसान विरोधी हैं।
 
राहुल ने कहा कि उत्तर प्रदेश के हालात बहुत खराब हैं और इस हालत की जिम्मेदार सपा और बसपा समेत पिछले 20 साल के दौरान आई गैर कांग्रेसी सरकारें हैं। उन्होंने अपना एक अनुभव बताते हुए कहा कि छह साल का बच्चा तक यह जानता है कि उत्तर प्रदेश में उसका भविष्य अंधकारमय है।
    
कांग्रेस महासचिव ने उत्तर प्रदेश की मायावती सरकार पर केन्द्रीय योजनाओं का धन हड़पने का आरोप लगाते हुए कहा कि विभिन्न विकास योजनाओं के लिये केन्द्र से जो भी धन भेजा जाता है, उसे लखनउ में बैठा जादू का हाथी खा जाता है। राहुल ने सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव पर आज भी हमले जारी रखे और कहा कि कम्प्यूटर और अंग्रेजी का विरोध करने वाले यादव ने दोहरी नीति अपनाते हुए अपने बेटे अखिलेश यादव को इन दोनों ही चीजों की शिक्षा दी है।
    
उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह यादव कहते हैं कि कम्प्यूटर और अंग्रेजी की कोई जरुरत नहीं हैं। मैं अखिलेश को जानता हूं। वह बहुत अच्छी अंग्रेजी बोलते हैं और कम्प्यूटर भी चला लेते हैं। मगर यादव के मुताबिक अगर गरीब व्यक्ति अंग्रेजी और कम्प्यूटर सीखे तो यह गलत बात है। अमीर लोगों के लिये यह ठीक है लेकिन अगर गरीब कम्प्यूटर शिक्षा की मांग करे, तो यह गलत है।
    
कांग्रेस महासचिव ने भारतीय जनता पार्टी का नाम लिये बगैर कहा कि इंडिया शाइनिंग की सरकार किसानों को भूल गयी थी। हमने किसानों की कर्जमाफी के तौर पर 60 हजार करोड़ रुपये दिये। किसान के लिये बैंक के दरवाजे खोले। आपके खाते में सीधे पैसा भेजा।
    
अपनी पार्टी को किसानों का सच्चा हितैषी करार देते हुए उन्होंने कहा कि किसान अपना खूऩ पसीना देता है लेकिन उसे टप्पल और भट्टा पारसौल में जमीन का सही मुआवजा मांगने पर गोली मिली। भट्टा पारसौल में किसानों के लिये हम खड़े हुए। मुख्यमंत्री मायावती वहां नहीं पहुंचीं। जब हम पहुंचे तो सरकार ने कहा कि वे किसान नहीं बल्कि नक्सलवादी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जनता का धन हड़प लेती है मायावती सरकार: राहुल गांधी