DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओएमआर उत्तर पत्रक को भरने में बरतें सावधानी

वरीय संवाददाता पटना। टीईटी के लिए आए आवेदन पत्रों को भरने के दौरान गलती करने की सजा लाखों लोग भुगत रहे हैं। कहीं ऐसा ना हो कि परीक्षा के दौरान उत्तर पत्रक को भरने के दौरान की गई छोटी सी गलती भी परेशानी का सबब बन जाए। इसलिए टीईटी की परीक्षा में बैठने जा रहे परीक्षार्थियों को आगे भी काफी सावधानी बरतने की जरूरत है।

अभ्यर्थियों के काम को आसान करने के लिए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति भी अपनी तरफ से तैयारी कर रही है। इसके लिए बोर्ड की ओर से ओएमआर उत्तर पत्रक के नमूने की कॉपी विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित की जाएगी। ओएमआर यानी ऑप्टिल मार्किंग रिकोग्नाइजेशन में जांच के लिए कम्प्यूटर का सहारा लिया जाता है।

आमतौर पर अब सभी परीक्षाओं में आवेदन भरने से लेकर परीक्षा लेने में ओएमआर सीट का प्रयोग किया जाता है। इस पद्धति में काम काफी तेजी से होता है और गलती की संभावना नहीं रहती है। कम्प्यूटर ओएमआर सीट पर अंकित चिन्हों को पढ़ता है और इसमें थोड़ी भी गलती होने पर फार्म या उत्तर पत्रक रद्द होने की संभावना बन जाती है।

टीईटी के लिए आवेदन देने के दौरान यही हुआ। इसमें की गई गलतियों के कारण दो लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों का आवेदन रद्द हुआ। टीईटी की परीक्षा के दौरान भी उत्तर पत्रक में ओएमआर सीट का प्रयोग किया जाएगा। शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव अंजनी कुमार सिंह ने इसीलिए बोर्ड को ओएमआर की प्रति को सार्वजनिक करने का निर्देश दिया है।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के सचिव ललन झा ने कहा कि इसकी तैयारी चल रही है और कुछ दिनों में नमूने के तौर पर ओएमआर उत्तर पत्रक समाचार पत्र में प्रकाशित किया जाएगा। 18 दिसम्बर को होने वाली सचिवालय सहायक की परीक्षा में भी ओएमआर उत्तर पत्रक का प्रयोग होना है।

एसएससी ने इसके लिए पहले ही ओएमआर उत्तर पत्रक को नमूने के तौर पर वेबसाइट पर डाल दिया है। ओएमआर उत्तर पत्रक में किसी भी तरह का अवांछित निशान लगाना मना है। खास तौर से बार कोड पर निशान लगने से उत्तर पत्रक रद्द हो जाने की संभावना बन जाएगी। साथ ही साथ इसे मोड़ने या फाड़ने की भी सख्त मनाही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ओएमआर उत्तर पत्रक को भरने में बरतें सावधानी