DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चेता प्रशासन, अब आपकी बारी

प्रधान संवाददाता पटना। कोलकाता के एक नामी अस्पताल में पिछले दिनों दुर्घटना के जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। जिले के अस्पतालों की फायर सेफ्टी को दुरूस्त करने की कवायद शुरू हो गयी है। पहले फेज में इसके दायरे में सरकारी अस्पतालों की व्यवस्था को चुस्त किया जा रहा है। कोलकाता की घटना से सबक लेते हुए जिला प्रशासन ने सभी अस्पतालों को खास निर्देश दिए हैं।

यह जानकारी जिलाधिकारी संजय कुमार सिंह ने दी। उन्होंने कहा कि सभी अस्पतालों को बिजली की लूज वायरिंग ठीक करने का आदेश दिया गया है। आने-जाने वाले रास्तों पर किसी प्रकार का व्यावधान न हो इसकी व्यवस्था करने को कहा गया है। अस्पताल में पड़े बेकार सामान को नीलाम करने और ज्वलनशील पदार्थ को गोदामों में रखने का आदेश दिया गया है।

ऐसा नहीं करने वाले अस्पताल के प्रभारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने बताया कि जल्द ही फायर समेत अन्य विभाग के विशेषज्ञों की टीम सभी अस्पतालों का निरीक्षण करेगी, ताकि कमियों को पूरी तरह दूर किया जा सके। जिलाधिकारी ने बताया कि दूसरे चरण में निजी नर्सिग होम की चेकिंग की जाएगी।

नर्सिग होम की जांच के लिए भी टीम गठित की जा रही है। सभी निजी नर्सिग होम को फायर सेफ्टी के नार्म्स के पालन का आदेश दिया गया है। साथ ही सभी नर्सिंग होम संचालक के साथ जल्द ही बैठक कर आग पर काबू रखने और दुर्घटना से बचाव की जानकारी उपलब्ध करायी जाएगी। हालांकि राजधानी में ऐसे अस्पतालों की संख्या नाममात्र की है, जिनकी अग्नि शमन व्यवस्था दुरूस्त है।

डीएम ने कहा कि सभी निजी नर्सिग की गंभीरता से जांच की जाएगी और गड़बड़ी पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चेता प्रशासन, अब आपकी बारी