DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटी को बदमाश बेटों से बचाओ

मूलभूत सुविधाओं की मांग तथा पुलिस की लापरवाही के अलावा घरेलू झगड़े और अध्यापक की लड़ाई जैसे मामले भी अब ग्रीवेंस कमेटी में पहुंचने लगे। ऐसे ही एक मामले की सुनवाई शुक्रवार को सेक्टर-17 माडर्न स्कूल के सभागार में होने वाली इस कमेटी की बैठक में होगी। जिसमें एक मां ने दो बेटों को बदमाश की संज्ञा देते हुए उनसे अपनी बेटी को बचाने की गुहार प्रशासन से लगाई है।

दो अध्यापकों का झगड़ा भी यहां पहुंचा गया। इसमें सरकारी स्कूल की एक अध्यापिका ने अपनी मुख्यध्यापिका पर हाजरी रजिस्ट्रर छीनने के साथ स्कूल में प्रवेश नहीं करने का आरोप लगाया है। सुनवाई के लिए ऐसी 25 शिकायतें स्वास्थ्य मंत्री राव नरेंद्र के सामने रखी जाएंगी। उपायुक्त डॉ. राकेश गुप्ता के आदेश पर प्रशासनिक अधिकारी बृहस्पतिवार को बैठक की तैयारी में देर शाम तक जुटे रहे।

एजेंडे के मद नंबर पांच में डबुआ कालोनी की कौशल्या की शिकायत है कि उनके पति का देहांत हो गया है। उनके चार बेटे हैं। इनमें दो बेटे पुलिस के साथ मिलकर गैर कानूनी काम करते हैं। कालोनी में इनकी छवि बदमाश की बन गई है। इनको जायदाद से बेदखल कर दिया गया है। दोनों अब मेरी बेटी की पिटाई करते हैं।

घर पर जबरन कब्जा करना चाहते हैं। आरोप है कि पुलिस में शिकायत करने जाती हूं तो वहां भी पुलिस वाले मुङो घमका कर भगा देते हैं। मुझे इंसाफ मेरे बेटों से बचाओ। मद नंबर-23 में नंगला गुजरान की अरुणा की शिकायत है कि वो राजकीय उच्च विद्यालय फरीदपुर में बतौर गणित विषय की गेस्ट टीचर हैं। स्कूल की मुख्याध्यापिका सुशीला यादव ने हाजरी रजिस्टर नहीं दिया। विद्यालय आने से भी रोका दिया गया है। मुङो वेतन भी नहीं मिला है। इनके अलावा जमीन पर कब्जा, गंदगी, पुलिस से जुड़े मुद्दे भी एजेंडे में शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेटी को बदमाश बेटों से बचाओ