DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंजीनियर की दबंगई से परेशान पूर्व मंत्री

एक इंजीनियर की दबंगई से एक पूर्व मंत्री काफी परेशान हैं। इंजीनियर हैं भवन प्रमंडल बोकारो में पदस्थापित मो अफरोज आलम। पूर्व मंत्री हैं चंदनक्यारी के आजसू विघायक उमाकांत रजक। इंजीनियर पर आरोप है कि वह विधायकों के लेडरपैड का इस्तेमाल कर अफसरों तथा ठेकेदारों को हड़काते हैं।

भयादोहन करते हैं। इससे पूर्व मंत्री की बदनामी हो रही है। यह आरोप उमाकांत रजक ने मुख्य सचिव तथा पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव से आवेदन देकर किया है। खुद वह व्यक्तिगत तौर पर भी प्रधान सचिव से पिछले दिनों मिले। पूर्व मंत्री का कहना है कि जूनियर इंजीनियर मो अफरोज आलम ने उनके फरजी लेटर पैड का इस्तेमाल कर सहायक अभियंता राजेंद्र प्रसाद के खिलाफ शिकायती पत्र मुख्य सचिव को दिया है। फरजी लेटरपैड पर रजक का जाली हस्ताक्षर भी इंजीनियर ने किया है। पूर्व मंत्री ने कहा है कि उन्हें बदनाम करने की नीयत से कनीय अभियंता ऐसा कर रहे हैं। दरअसल सहायक अभियंता को परेशान करने के लिए कनीय अभियंता ने फरजी लेटरपैड का इस्तेमाल किया है। रजक ने पूरे मामले की निगरानी जांच कराने का अनुरोध मुख्य सचिव से की है। श्री रजक ने बताया कि कनीय अभियंता के खिलाफ इसी तरह का मामला विधायक जगन्नाथ महतो ने भी उठाया था। श्री महतो ने डीसी, बोकारो को अपने पत्रंक 4245, दिनांक 17.11.2011 को इस संबंध में पत्र लिखा था।

क्या है फरजी लेटरपैड में- मुख्य सचिव को लिखे गये पत्र में कहा गया है कि भवन निर्माण बोकारो में पदस्थापित सहायक अभियंता राजेंद्र प्रसाद पूर्व मंत्री उमाकांत रजक को अपनी स्वाजातीय तथा रिश्तेदार बताते हैं। रजक का नाम लेकर वह अफसरों तथा ठेकेदारों को डराते-धमकाते हैं। पूरे मामले की जांच करायी जाये। पत्र के नीचे उमाकांत रजक का जाली हस्ताक्षर है। 
सरकार ने लिया है गंभीरता से- पूर्व मंत्री द्वारा लगाये गये आरोप को सरकार ने गंभीरता से लिया है। कनीय अभियंता के खिलाफ सरकार ने जांच कराने का निर्णय लिया है।

सरकार से शिकायत की है : रजक
पूर्व मंत्री से पूछे जाने पर कहा कि उन्होंने इस मामले में सरकार से शिकायत की है। इंजीनियर की दबंगई बढ़ गयी है। मामले की जांच करायी जानी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंजीनियर की दबंगई से परेशान पूर्व मंत्री