DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मजबूती का मौका दे रहा कमजोर रुपया

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले लगातार कमजोर हो रहे रुपये ने जहां कुछ लोगों की पेशानी पर बल डाल दिए हैं, वहीं कुछ के लिए यह बेहतर मौका साबित होने जा रहा है। यह स्थिति अनिवासी भारतीयों को भारत में निवेश करके इस मौके को भुनाने का अच्छा मौका देगी। साथ ही इस बार धान की बंपर पैदावार होने के कारण चावल निर्यातकों के लिए भी फायदे ही फायदे नजर आ रहे हैं।

भारतीय प्रॉपर्टी डेवलपर्स को उम्मीद है कि मौजूदा माहौल में एनआरआई देश की प्रॉपर्टी में भारी निवेश करेंगे। इनमें यूएई, अमेरिका और ब्रिटेन के अनिवासी प्रमुख हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि जुलाई से रुपया 17 प्रतिशत कमजोर हुआ है। इस वजह से एनआरआई को जुलाई के मुकाबले 15 से 20 प्रतिशत तक सस्ती प्रॉपर्टी मिलेगी। कुछ दिनों पहले हुए सुमांसा एग्जीबिशंस के सर्वे के मुताबिक यूएई में रहने वाले आधे एनआरआई भारत में प्रॉपर्टी में निवेश करना चाहते हैं। जाहिर है भारत में प्रॉपर्टी में निवेश के इच्छुक बढ़े हैं और उन्हें कमजोर रुपये का फायदा भी मिलेगा।

वहीं वैश्विक स्तर पर सर्वे और अध्ययन करने वाली कंपनी क्रिसिल रेटिंग के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपये के कमजोर होने से भारतीय चावल निर्यातकों को 150 आधार अंकों का फायदा होगा। रेटिंग कंपनी के मुताबिक भारत ने जहां 2010-11 में दुनिया का सिर्फ सात प्रतिशत चावल निर्यात किया था, जो 2011-12 में बढ़कर 21 प्रतिशत हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मजबूती का मौका दे रहा कमजोर रुपया