DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अन्ना का नया रूप

लोकपाल विधेयक के मसले पर अन्ना हजारे के वक्तव्य अब संदेह पैदा करने लगे हैं। क्या उनका एजेंडा वाकई सिर्फ भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई का है या फिर वह कांग्रेस को मिटाने की भूमिका तैयार कर रहे हैं? पिछले दिनों जिस तरह से उन्होंने राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी पर हमले बोले हैं, उससे साफ हो गया है कि उनका इरादा गैर राजनीतिक नहीं है, क्योंकि यह कोई भोला आदमी  भी समझ सकता है कि अन्ना के सहयोगी पहले से ही कांग्रेस के खिलाफ काम कर रहे हैं। अरविंद केजरीवाल और किरण बेदी तो खुलेआम कांग्रेस के खिलाफ हैं। लेकिन अब बाकी सदस्यों का भी चेहरा खुलकर सामने आ गया है। कांग्रेस की मुखालफत कोई गलत बात नहीं है, लेकिन वह शिखंडियों की तरह नहीं हो, बल्कि भाजपा की तरह सामने से कीजिए।
सुरेश महतो
मुखर्जी नगर, दिल्ली

गुरु ने बढ़ाया गौरव
सुपर-30 के सर्वेसर्वा आनंद कुमार को दुनिया के शीर्ष 20 शिक्षकों की सूची में शामिल किया जाना निश्चित रूप से हम भारतीयों के लिए गर्व की बात है। आनंद की कहानी आज सभी को पता है। उन्होंने जो कदम उठाया है, वह प्रशंसनीय है। आज हमारे देश को ऐसे शिक्षकों की बहुत जरूरत है। विडंबना यह है कि हमारे देश में शिक्षा और शिक्षकों का स्तर लगातार गिरता जा रहा है। ऐसे में आनंद कुमार जैसी शख्सीयतें उम्मीद बंधाती हैं। अगर आनंद जैसे शिक्षक हर राज्य में हों, तो मेरा मानना है कि अगली किसी भी सूची में सारे शीर्ष शिक्षक भारत के ही होंगे।
अतुल चंद्रा
नई दिल्ली

मार्क टली की टिप्पणी
पिछले दिनों संपादकीय पेज पर प्रकाशित ‘काले अध्याय पर सभ्यता की जीत’ शीर्षक लेख पढ़ा। लेखक मार्क टली ने जहां भारतीय राजनीति पर हावी हो रही स्वार्थपरता पर सटीक टिप्पणी की है, वहीं उन्होंने अपने लेख में भारत की सभ्यता-संस्कृति की गरिमा को भी प्रस्तुत किया है। बल्कि भारतीय सभ्यता व संस्कृति के प्रति उनकी श्रद्धा दिल  को छू लेती है। उनके विचारों की निर्मलता किसी को भी प्रभावित कर सकती है।
कमलेश तुली
द्वारका, नई दिल्ली

सहवाग को सलाम
सिर्फ एक क्रिकेटर ने न सिर्फ अपने देश में, बल्कि विश्व भर में खुशी का माहौल पैदा कर दिया है और यह कोई और शख्स नहीं, भारत के वीरू यानी विरेन्दर सहवाग हैं। सहवाग ने सभी आलोचकों का मुंह बंद करते हुए एक अनोखा विश्व रिकॉर्ड बनाया है। इस तरह का जौहर कोई भारतीय ही दिखा सकता है। सहवाग ने एक बार फिर पुष्ट कर दिया है कि प्रत्येक व्यक्ति की जिंदगी में उतार-चढ़ाव आता रहता है, पर भाग्य भी उसी का साथ देता है, जो साहस के साथ आगे बढ़े। हम लोगों को अपने इस खिलाड़ी से और भी उम्मीदें हैं। सहवाग अपने देश का नाम इसी तरह ऊंचा करते रहेंगे।
मनीष कुमार
ईस्ट ऑफ कैलाश, नई दिल्ली

महंगाई कहां घटी
पिछले दिनों पढ़ने को मिला कि खाद्य महंगाई दर काफी तेजी से गिरी है। लेकिन माफ कीजिए, यह सिर्फ आंकड़ेबाजी है, असल में महंगाई अब भी आम आदमी की छाती पर मूंग दल रही है। सरकार लाख दावे करे, लेकिन जब तक वह सटोरियों, कालाबाजारियों पर नकेल नहीं कसती, महंगाई रुकने वाली नहीं है। सबसे पहले सरकार को खाद्य पदार्थो के वायदा कारोबार पर रोक लगानी चाहिए। लेकिन ऐसा कोई संकेत अभी नहीं मिल रहा है। ऐसे में महंगाई कैसे थमेगी?
गीता सिंह
पटपड़गंज, दिल्ली

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अन्ना का नया रूप