DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रवासी पक्षियों के धीमे आगमन से पक्षी प्रेमी निराश

बीते सालों के विपरीत इस साल झारखंड के हजारीबाग और अन्य सुरम्य स्थलों की क्षीलों एवं जलाशयों में अब तक प्रवासी पक्षियों का जमघट नहीं लग पाया है। प्रवासी आगन्तुकों का आगमन धीमा होने के कारण पक्षी प्रेमी काफी निराश हैं।

अब तक असामान्य रूप से हल्की ठंड में साइबेरिया और बर्फ से ढके ऊपरी हिमालय पर्वतीय क्षेत्र से पक्षी कम संख्या में आ रहे हैं, लेकिन वन्यजीव विभाग का कहना है कि प्रवासी मेहमानों की संख्या में दिसंबर के अंत में इजाफा होगा।

गुलबाग सिंह नाम के पर्यटक (जो हर बार सर्दियों में हजारीबाग झील जाना नहीं छोड़ते थे) ने कहा कि नवम्बर में भी अब तक प्रवासी पक्षी यहां अपना डेरा डाल लेते थे] लेकिन इस बार ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि हमें अच्छे मानसून के बाद इस साल भी बड़ी संख्या में पक्षियों के आने की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

एक विक्रेता ने कहा कि पिछले साल हजारीबाग झील और चारोवा बांध में कम पानी था, फिर भी इस समय तक अच्छी खासी संख्या में प्रवासी मेहमान आ चुके थे। वन्यजीव विभाग ने हालांकि, सभी उम्मीदें नहीं छोड़ी हैं।

मंडल वन अधिकारी, हजारीबाग आरएन मिश्रा ने बताया कि संथाल परगना के साहिबगंज स्थित उधवा वन अभयारण्य में भी प्रवासी पक्षियों की संख्या में काफी कमी आई है और हमें उम्मीद है कि पूरे राज्य में जल्द ही उनका आगमन गति पकड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रवासी पक्षियों के धीमे आगमन से पक्षी प्रेमी निराश