DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कई स्कूल नहीं चाहते हैं टीईटी का परीक्षा लेना

अभिषेक कुमार पटना। टीईटी की परीक्षा से हजारों परीक्षार्थी वंचित हो सकते हैं। पटना जिले में शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए 99 केन्द्र बनाए हैं। पर इनमें कई ऐसे स्कूल हैं जो परीक्षा लेने से इंकार रहे हैं। इसकी वजह हजारों परीक्षार्थियों को बगैर परीक्षा दिए लौटना पड़ सकता है। स्कूल संसाधन की कमी का हवाला दे रहे हैं।

इस परीक्षा के लिए माउंट कार्मेल स्कूल को सेंटर बना दिया गया है। पर अभी तक स्कूल की ओर से परीक्षा लेने की अनुमति नहीं प्रदान की गयी है। जिला शिक्षा कार्यालय की ओर से जारी सूची में इस स्कूल में 700 परीक्षार्थियों का परीक्षा होनी है। इसी तरह से डीएवी वाल्मी स्कूल ने भी परीक्षा लेने के लिए अभी तक हरी झंडी नहीं दी है।

इस स्कूल में भी 700 परीक्षार्थियों का परीक्षा होनी है। इसी तरह से कॉलेज ऑफ कॉमर्स ने अधिक परीक्षार्थियों की परीक्षा लेने से इंकार कर दिया है। यहां पर दो हजार छात्रों का सेंटर दिया गया है। आरपीएस कॉलेज में भी 600 छात्रों का परीक्षा का सेंटर है।

जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि माउंट कार्मेल और डीएवी स्कूल से अनुमति नहीं मिली है। हालांकि उन्होंने कहा कि स्कूलों को हर हाल में परीक्षा लेनी होगी। चाहे स्कूलों को पंडाल में परीक्षा लेनी पड़े या दरी पर। टीईटी की महापरीक्षा नहीं लेने वाले स्कूलों पर कार्रवाई होगी। जिन स्कूलों में संसाधन की कमी है उसे दूर करने का प्रयास किया जाएगा।

साथ ही बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में परीक्षा के दिन बीईओ को भ्रमण करने का आदेश दिया गया है। जिन स्कूलों में शिक्षकों की कमी होगी दूसरे स्कूलों से प्रतिनियुक्ति पर शिक्षक देने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा संसाधन की कमी होने पर खर्च करने का आदेश दिया है। उन्होंने बताया कि एक बेंच पर तीन ही परीक्षार्थियों का बैठना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कई स्कूल नहीं चाहते हैं टीईटी का परीक्षा लेना