DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो कार्यपालक पदाधिकारियों का वेतन रोका गया

वरीय संवाददाता। पटना शहर की सफाई को लेकर नगर आयुक्त का शिकंजा कसता जा रहा है। कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में नूतन राजधानी अंचल और बांकीपुर अंचल के कार्यपालक पदाधिकारी का वेतन रोक दिया गया है। दोनों पदाधिकारियों से स्पष्टीकरण भी पूछा गया है।

हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन में शहर की सफाई के लिए शुरू किए गए विशेष अभियान की नियमित समीक्षा के दौरान रविवार को नगर आयुक्त पंकज कुमार पाल पदाधिकारियों पर काफी नाराज हुए। दोनों कार्यपालक पदाधिकारियों के कार्य संतोषजनक नहीं पाए जाने तक उनके वेतन पर रोक लगा दिया गया।

नगर आयुक्त ने कहा कि अगली समीक्षा बैठक में कार्य संतोषजनक नहीं पाया गया तो दोनों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के लिए नगर विकास एवं आवास विभाग को पत्र लिखने के साथ ही सेवा राज्य सरकार को वापस कर दी जाएगी। समीक्षा बैठक में नहीं आने के कारण दोनों स्वास्थ्य पदाधिकारियों से भी स्पष्टीकरण पूछा गया है।

कुछ स्थानों पर समय से कूड़े का उठाव नहीं कराने के कारण चारों अंचल के कार्यपालक पदाधिकारियोंको राजस्व कार्य से मुक्त करते हुए नगर आयुक्त ने सोमवार से सिर्फ सफाई कार्य कराने का आदेश दिया है। सभी कूड़ा केंद्रों से लगातार कूड़े का उठाव कराने को कहा गया है। चारों अंचलों में प्रतिनियुक्त उप समाहर्ताओं को होल्डिंग टैक्स वसूली की निगरानी करने का आदेश दिया गया है।

इधर निगमकमिर्यो ने शनिवार देर रात तक महत्वपूर्ण स्थानों से कूड़े का उठाव किया। रविवार को भी दिनभर सफाई कार्य चलता रहा। मुख्य सड़कों से कूड़े का उठाव कराने के बाद मोहल्लों की सड़कों पर से कूड़े का उठाव कराया गया। दूसरी ओर अहले सुबह नगर आयुक्त सफाई कार्य का जायजा लेने निकले।

लगातार निर्देश दिए जाने के बावजूद बांकीपुर अंचल में कूड़े का उठाव कराने के बाद वहां चूना का छिड़काव नहीं किया गया है। नूतन राजधानी अंचल में सीडीए भवन के पास और आशियानानगर से समय से कूड़े का उठाव नहीं कराया गया था। निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त ने संसाधनों का पूरी तरह से इस्तेमाल कर युद्ध स्तर पर कूड़े का उठाव कराने का निर्देश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो कार्यपालक पदाधिकारियों का वेतन रोका गया