DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केएफसी, डॉमिनोज, सबवे, सीसीडी बने हैंग आउट प्लेस

श्रेयसी मिश्रा। रोज ब रोज निखरती, ताजादम होती रांची में पिछले कुछ वर्षो में अगर कुछ बदला है तो वह है लोगों का जायका और मिलने-मिलाने का तरीका। खासकर यहां का युवा मल्टीनेशनल फूड जायंट्स को हाथोंहाथ ले रहा है। ये फूड जॉयंट्स अर्बन रांची की पहचान बन रहे हैं। और, युवा इनसे खुद को बहुत सहूलियत के साथ कनेक्ट कर रहे हैं।

सीसीडी, सबवे, डॉमिनोज और अब केएफसी में युवाओं की जमघट बदलती रांची की तसवीर पेश करती है। जानकारों की मानें तो ये अंतरराष्ट्रीय फूड आउटलेट रांची की मांग, समृद्धि, आबादी और मल्टी कल्चरल सोसायटी की देन हैं।

जायका भी गैदरिंग भीआठ साल पहले जब रांची में कैपीटॉल हिल में पहला सीसीडी खुला तो यह रांचीआइट्स के लिए नया अनुभव था। सीसीडी के मैनेजर राजेश्वर प्रसाद कहते हैं कि पहले यहां यंगस्टर्स ही आते थे, पर अब फैमिली और प्रोफेशनल्स भी आने लगे हैं।

सुबह 8:30 से रात के 11 बजे तक यहां चहल-पहल देखी जा सकती है। राजेश्वर का मानना है कि यहां की कॉफी का अरोमा और एबीएंस ही लोगों को अपनी ओर खींचता है। अमरीकी सैंडविच के स्वाद से रांचीवालों का वास्ता करानेवाले सबवे में भी युवाओं की भीड़ देखी जा सकती है।

यहां मेट्रो कल्चर और इंटरनेशनल ब्रांड के मुरीद युवा हर वक्त नजर आ जाते हैं।जेब पर भारी नहीं केएफसीबमुश्किल एक महीना पहले सिरमटोली चौक पर खुले केएफसी में तरक्कीपसंद रांची अनोखे अंदाज में नजर आती है। यहां हर आयुवर्ग के लोग नजर आ जाते हैं।

अपने फ्राइड चिकेन रेसेपी के लिए मशहूर केएफसी का जायका रांचीवालों की जुबान पर चढ़ चुका है। फ्राइड चिकेन के अलावा ग्रिल्ड और रोस्टेड चिकन की कई वेरायटीज, साइड डिशेज और डेजर्ट भी काफी पसंद किए जा रहे हैं। सेंट जेवियर्स कॉलेज के छात्र अतुल आनंद कहते हैं कि इतना तो युवा पॉकेटमनी से मैनेज कर लेते हैं।

युवाओं को अब देसी पराठा की बजाय इटालियन पिज्जा लुभा रहा है। डॉमिनोज इनकी पंसदीदा जगह है। मेनरोड स्थित डॉमिनोज में बच्चों और युवा खासतौर पर देखे जा सकते हैं। डोमिनोज के मैनेजर सैयद आलम कहते हैं कि फोन पर ऑर्डर प्लेस करनेवालों की संख्या बढ़ी है।

मेट्रो कल्चर का असर रांचीवालों के इंजॉय के तरीके पर भी पड़ा है। हैंग आउट साप्ताहिक गतिविधियों में शामिल हो चुका है। बढ़ा ट्रीट देने का चलनअब युवाओं व यंग बिजनेस प्रोफेशनल्स में ट्रीट देने का चलन बढ़ा है। क्लास टेस्ट में टॉप करने से लेकर एक इंक्रीमेंट मिलने पर भी पार्टियां थ्रो की जाने लगी हैं। ऐसी पार्टियों के लिए ये जगहें ट्रेंडी भी हैं और बजट में भी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केएफसी, डॉमिनोज, सबवे, सीसीडी बने हैंग आउट प्लेस